आजमगढ़ कमिश्नर ने की विकास कार्यों की समीक्षा:गोल्डेन कार्ड बनाने के लिए चलाएं अभियान, 50 लाख से अधिक लागत की 331 परियोजनाओं पर मंथन

आजमगढ़5 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
आजमगढ़ कमिश्नर मनीष चौहान मंडलीय अधिकारियों के साथ समीक्षा बैठक करते हुए। - Dainik Bhaskar
आजमगढ़ कमिश्नर मनीष चौहान मंडलीय अधिकारियों के साथ समीक्षा बैठक करते हुए।

आजमगढ़ कमिश्नर मनीष चौहान ने आजमगढ़, मऊ और बलिया के अधिकारियों के साथ समीक्षा बैठक की। कमिश्नर ने सरकारी अस्पतालों में चिकित्सा व्यवस्था में अपेक्षित सुधार लाने हेतु तीनों जिलों के डीएम को महीने में कम से कम एक बार जिला चिकित्सालय का निरीक्षण करने का निर्देश दिया। इसके साथ ही सभी सीएचसी एवं पीएचसी का भी नियमित रूप से निरीक्षण करायें। कमिश्नर ने समीक्षा करते हुए आयुष्मान भारत योजना के अन्तर्गत जनपदों में गोल्डेन कार्ड आज़मगढ़ में 261270, मऊ में 201237 एवं बलिया में 361337 लाभार्थियों के कार्ड बने हैं। इस प्रकार आज़मगढ़ में 113935, मऊ में 79459 एवं बलिया में 153384 परिवार ऐसे हैं जिसमें कम से कम लाभार्थी का गोल्डेन कार्ड बना है। जिले में अधिक से अधिक कार्ड बनाये जाने हेतु आशाओं के साथ पंचायती राज विभाग की भी जिम्मेदारियां तय की जाय। इसके साथ ही लेखपाल और एएनएम आदि को भी कोटे की दुकानों पर राशन वितरण की तिथियों में लगाया जाय जिससे उपस्थित रहकर अधिक से उपभोक्ताओं का गोल्डेन कार्ड बना सकें।

50 लाख से अधिक लागत की परियोजनाओं की समीक्षा
कमिश्नर मनीष चौहान ने निर्माण कार्यों की समीक्षा करते हुए मण्डल के जनपदों में 50 लाख से अधिक लागत तथा 50 करोड़ से अधिक लागत की निर्माणाधीन परियोजनाओं की समीक्षा में कार्यदायी विभागों को गुणवत्ता के साथ समयबद्ध रूप से कार्यों को पूर्ण करने का निर्देश दिया। इन परियोजनाओं में यदि ठेकेदार द्वारा रूचि नहीं दिखाई जा रही है तो ऐसे ठेकेदारों के विरुद्ध कार्यवाही कराते हुए नियमानुसार अन्य ठेकेदारों के माध्यम से कार्य कराया जाय। आजमगढ़ मंडल में 50 लाख एवं उससे अधिक लागत की कुल 331 परियोजनायें स्वीकृत हैं, जिसमें आज़मगढ़ में 128, मऊ में 59 एवं बलिया में 144 परियोजनायें है।

खबरें और भी हैं...