पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

आजमगढ़ जिले में 4 चरणों में चलेगा क्षय रोग अभियान:सामूहिक स्थलों, सब्जी फल मंडी व साप्ताहिक बाजारों में चलाया जाएगा जन जागरूकता कार्यक्रम, स्क्रीनिंग कर खोजे जाऐंगे मरीज

आजमगढ़11 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
आजमगढ़ जिले में शुरू हुआ क्षय रोग जागरूकता कार्यक्रम। - Dainik Bhaskar
आजमगढ़ जिले में शुरू हुआ क्षय रोग जागरूकता कार्यक्रम।

आजमगढ़ जिले में राष्ट्रीय क्षय रोग उन्मूलन कार्यक्रम के अन्तर्गत 2 सितम्बर से शुरू हो चुका है। एक्टिव केस फाइंडिंग एवं निक्षय पोषण योजना (डीबीटी) अभियान 31 अक्टूबर तक 4 चरणों में चलाया जा रहा है। जिला क्षय रोग अधिकारी डॉ. परवेज अख्तर ने बताया कि अभियान के तहत स्वास्थ्य विभाग की टीम 16 सितंबर तक घर-घर जाकर लोगों की स्क्रीनिंग करेगी। प्रारंभिक लक्षण वालों के बलगम का सैंपल लेकर जांच के लिए भेजा जाएगा। साथ ही एचआईवी एवं डायबिटीज से ग्रसित व्यक्तियों की भी टीबी की जांच की जाएगी। निजी चिकित्सकों, निजी लैब एवं मेडिकल स्टोर में भी टीबी के बारे में जानकारी दी जाएगी।

14 दिन से अधिक खांसी आने पर तुरंत कराएं जांच
डॉ. परवेज अख्तर ने जिले की जनता को जागरूक करते हुए कहा कि यदि किसी व्यक्ति को दो हफ्तों से ज्यादा की खांसी, खांसते समय खून का आना, सीने में दर्द, बुखार, वजन का कम होने की शिकायत हो तो वह तत्काल अपने बलगम की जांच कराए। जिले में क्षय रोगियों की जांच एवं उपचार पूर्णतया नि:शुल्क है।

सितम्बर से शुरू हो चुका अभियान
डा. परवेज अख्तर ने बताया कि यह अभियान 2 सितम्बर से शुरू हो चुका है। 31 अक्टूबर तक चलने वाले इस अभियान को 4 चरणों में बांटा गया है। प्रथम चरण 2 से 6 सितंबर तक चलाया गया । वृद्धाश्रम, नवोदय विद्यालय, मदरसे, रैन बसेरा आदि में क्षय रोग कि स्क्रीनिंग का कार्य पूरा किया गया। दूसरे चरण 7 से 16 सितंबर तक विशेष अभियान के तहत जनपद के शहरी एवं ग्रामीण क्षेत्रों में घर-घर व मलिन एवं हाई रिस्क जनसंख्या वाले क्षेत्रों में टीबी स्क्रीनिंग की जाएगी। तीसरे चरण 17 से 30 सितंबर तक जनपद में एक्टिव केस फाइंडिंग अभियान के अंतर्गत समस्त चिन्हित समूहों के तहत सब्जी मंडी,फल मंडी, लेबर मार्केट, निर्माणाधीन प्रोजेक्ट, ईट भट्टे एवं सप्ताहिक बाजार आदि में सघन अभियान चला कर लोगों में क्षय रोग संबंधी जागरुकता उत्पन्न करने के साथ स्क्रीनिंग की जाएगी। इसके साथ ही इलाज के दौरान मरीज को मिलेंगे हर माह 500 रुपए प्रति माह निक्षय पोषण योजना के तहत उन्हें इलाज के दौरान सरकारी सहायता भी प्रदान की जाएगी। यह 500 रुपए पोषण युक्त भोजन के लिए दिया जाएगा।

खबरें और भी हैं...