आजमगढ़ के राजघाट पर शवों का किया गया सामूहिक पिंडदान:2013 से लावारिस लाशों का अंतिम संस्कार करवा रहा भारत रक्षा दल, 460 से अधिक डेडबॉडी का कराया जा चुका है अंतिम संस्कार

आजमगढ़4 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
आजमगढ़ जिले के राजघाट पर आयोजित सामूहिक पिंडदान कार्यक्रम में पिंडदान करते पंडित। - Dainik Bhaskar
आजमगढ़ जिले के राजघाट पर आयोजित सामूहिक पिंडदान कार्यक्रम में पिंडदान करते पंडित।

आजमगढ़ के राजघाट पर आज सामूहिक पिंडदान कार्यक्रम आयोजित किया गया। जिसमें लावारिस शवों का अंतिम संस्कार किया गया। भारत रक्षा दल (बीआरडी) के हरिकेश विक्रम श्रीवास्तव ने बताया कि हर साल बड़ी संख्या में ज्ञात व अज्ञात शवों का अंतिम संस्कार राजघाट पर हम लोगों द्वारा किया जाता है। यहां पर बकायदा पंडित की देखरेख में मृतलोगों की आत्मा की शांति के लिए पूजा कराई जाती है। इसके पीछे मकसद ये है कि मृत लोगों की आत्मा को शांति मिल सके। ये कार्यक्रम हर साल आयोजित किया जाता है।

आजमगढ़ जिले के राजघाट पर सामूहिक पिंडदान की जानकारी देते हरिकेश विक्रम श्रीवास्तव।
आजमगढ़ जिले के राजघाट पर सामूहिक पिंडदान की जानकारी देते हरिकेश विक्रम श्रीवास्तव।

460 से अधिक लाशों का किया गया है अंतिम संस्कार

दैनिक भास्कर से बातचीत करते हुए हरिकेश विक्रम श्रीवास्तव ने बताया कि बीआरडी ने 2013 से जनसहयोग के माध्यम से पिंडदान कार्यक्रम की शुरुआत की थी। अब तक 460 से अधिक लावारिस शवों का अंतिम संस्कार कराया जा चुका है। कोविड संक्रमण के समय कई ऐसी लाशें आई। जिनके परिजनों ने भी उन्हें हाथ लगाना उचित नहीं समझा। इसके बावजूद हमारी टीम ने उन लाशों का विधि पूर्वक अंतिम संस्कार किया। इसके साथ ही कई ऐसी लाशें आती हैं जो कि लावारिस होती हैं। अब लोगों को हमारे बारे में पता चल चुका है। इसलिए हमें काम करने में और भी ज्यादा आसानी होती है। लोग हमें लावारिस लाशों के बारे में सूचना देते हैं। हमें जैसे ही सूचना मिलती है। ऐसी सभी लाशों का अंतिम संस्कार कराया जाता है

गैस शवदाह मशीन का भी हो चुका है शिलान्यास

हरिकेश विक्रम श्रीवास्तव ने बताया कि राजघाट पर गैस शवदाह मशीन का भी शिलान्यास हो गया है। इस मशीन को शुरू करने में 27 लाख रूपए का खर्च आएगा।, जो जन सहयोग से इकट्‌ठा किया जा रहा है। मशीन लग जाने से 30 मिनट में शवों का 30 मिनट ने अंतिम संस्कार हो जाएगा। सबसे खास बात यह है कि एक शव जलाने में 14 किलोग्राम गैस खर्च होगी।

खबरें और भी हैं...