आजमगढ़ में किसानों को बताई गई आय बढ़ाने की विधि:मशरूम का उत्पादन कर किसान कर सकते हैं आय में वृद्धि, जैविक कचरे को गुणवत्तायुक्त खाद में बदलने की बताई विधि

आजमगढ़2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
आजमगढ़ जिले के कृषि विज्ञान केन्द्र में किसानों काे स्वच्छता व मशरूम उत्पादन के बारे में किया गया जागरूक। - Dainik Bhaskar
आजमगढ़ जिले के कृषि विज्ञान केन्द्र में किसानों काे स्वच्छता व मशरूम उत्पादन के बारे में किया गया जागरूक।

आजमगढ़ जिले के कृषि विज्ञान केन्द्र कोटवा में अमृत महोत्सव के अन्तर्गत आचार्य नरेन्द्र देव कृषि विश्वविद्यालय कुमारगंज के निर्देशन में स्वच्छता अभियान का शुभारम्भ किया गया। अभियान के तहत लोगों को अपने आस-पास साफ-सफाई रखने का संदेश दिया गया जिसे बीमारियों से बचा जा सके। इस अभियान के अन्तर्गत केन्द्र प्रभारी डॉ आरके सिंह ने किसानों को फसल प्रबंधन व अवशेष प्रबंधन के बारे में जानकारी दी। किसानों को सम्बोधित करते हुए कहा कि डीबीटी बायोटेक किसान हब परियोजनान्तर्गत सूक्ष्मजीव आधारित अनुकल्पों की सहायता से हम सभी जैविक कचरों को गुणवत्तायुक्त खाद में बदल कर मिट्टी की सेहत में सुधार कर सकते हैं, और निश्चित रूप से इससे किसानों की फसलों का उत्पादन बढ़ेगा और किसान लाभान्वित होंगे।

मशरूम की खेती से लाभान्वित होंगे किसान
डॉ आरके सिंह ने किसानों को गांव में मशरूम का उत्पादन कर आय बढ़ाने के बारे में जागरूक किया। इसके साथ ही वर्मी कम्पोस्ट, नाडेप कंपोस्ट व वेस्ट डिकम्पोजर के उपयोग पर प्रकाश डाला। मिट्टी, जल, वायु को शुद्ध रखने के साथ ही प्राकृतिक संसाधनों के संरक्षण हेतु भी सलाह दिया। इसके साथ ही किसानों को गुणवत्तायुक्त उत्पाद लेने के लिए प्रेरित किया। इस योजना के अन्तर्गत 4 कम्पोस्ट पिट की स्थापना कराई गई। कार्यक्रम में 16 महिला किसान व 35 पुरूष किसान सहित 51 प्रगतिशील किसानों ने सहभागिता कर और किसानों को जागरूक करने की बात कही।

खबरें और भी हैं...