आजमगढ़ के किसानों को दी गई मशरूम की ट्रेनिंग:5 दिवसीय प्रशिक्षण कार्यक्रम में किया जाएगा ट्रेंड, युवा बेरोजगारों को मिलेगा फायदा, बढ़ेगी आय

आजमगढ़3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
आजमगढ़ जिले के कृषि विज्ञान केन्द्र में किसानों को मशरूम की खेती के बारे में जागरूक करते कृषि वैज्ञानिक। - Dainik Bhaskar
आजमगढ़ जिले के कृषि विज्ञान केन्द्र में किसानों को मशरूम की खेती के बारे में जागरूक करते कृषि वैज्ञानिक।

आजमगढ़ जिले में किसानों व युवाओं को मशरूम की ट्रेनिंग देने के लिए 5 दिवसीय प्रशिक्षण कार्यक्रम शुरू हुआ है। इसका मुख्य मकसद यह है कि बड़ी संख्या में किसान व युवा जो खेती-किसानी से अधिक आय नहीं कमा पा रहे हैं। वह मशरूम की खेती का प्रशिक्षण लेकर इसकी खेती करें। मशरूम की खेती करने वालों को अधिक मुनाफा होगा। जिले के कृषि विज्ञान केन्द्र में शुरू हुए इस प्रशिक्षण के माध्यम से जिले के किसानों को मशरूम से होने वाले फायदे और औषधीय व पोषकीय गुणों के बारे में जानकारी दी जाएगी।

युवाओं को मिलेगा रोजगार
वरिष्ठ कृषि वैज्ञानिक डॉ आरपी सिंह ने बताया कि जिले के युवाओं को आत्मनिर्भर बनाने में यह काफी सहायक साबित होगा। पावर प्वाइंट प्रजेंटेशन के माध्यम से किसानों को खेती के बारे में जानकारी दी गई। इसके साथ ही केवीके द्वारा संचालित किसानों के लिए योजनाओं के बारे में भी जागरूक किया गया।
प्रशिक्षण को प्रायोगिक एवं रोचक बनाने हेतु ग्राम झिरुआ कमालपुर विकास खण्ड ठेकमा के सफल मशरूम उद्यमी विपिन बिहारी के मशरूम फार्म पर प्रतिभागियों को बटन मशरूम हेतु कम लागत वाली संरचना का निर्माण व गुणवत्तायुक्त कंपोस्ट बनाने व कंपोस्ट की पलटाई आदि पर कौशल प्रदर्शन कराया गया। इस प्रशिक्षण कार्यक्रम में बड़ी संख्या में किसानों ने सहभागिता की।

खबरें और भी हैं...