आजमगढ़ पुलिस ने तीन आरोपियों की खोली हिस्ट्रीशीट:हिस्ट्रीशीट खोलने में जीयनपुर अव्वल तो कोतवाली और कप्तानगंज फिसड्‌डी, 224 अपराधियों की खुली हिस्ट्रीशीट

आजमगढ़19 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
आजमगढ़ जिले के एसपी अनुराग आर्य ने अपराधियों के विरूद्ध चलाया अभियान, संगठित अपराध करने वालों पर हो रही कार्रवाई। - Dainik Bhaskar
आजमगढ़ जिले के एसपी अनुराग आर्य ने अपराधियों के विरूद्ध चलाया अभियान, संगठित अपराध करने वालों पर हो रही कार्रवाई।

आजमगढ़ जिले के एसपी अनुराग आर्य ने अपराधियों के विरूद्ध अभियान चलाया हुआ है। इस अभियान के तहत जिले में अपराधियों पर नकेल कसने के लिए चलाये जा रहे अभियान के तहत हिस्ट्रीशीट खोलने, गुण्डा एक्ट में कार्यवाही, गैंग पंजीकरण की कार्यवाही लगातार की जा रही है। जिससे जिले में अपराध की घटनाओं को रोका जा सके। एसपी अनुराग आर्य ने एटीएम फ्रॉड और गिरोह बनाकर अपराध करने वाले आरोपियों की हिस्ट्रीशीट खोली है, जिससे उनके क्रिया कलापों पर निगरानी रखी जा सके।

यह हैं तीनो आरोपी
जिले के एसपी अनुराग आर्य ने जिन तीन आरोपियों की हिस्ट्रीशीट खोली है उनमें सत्येन्द्र कुमार पुत्र राम सुहाग निवासी भोपालपुर थाना गंभीरपुर, राहुल कुमार और कृष्णानन्द सिंह ऊर्फ विक्की सिंह हैं। इन आरोपियों के विरूद्ध आजमगढ़ और वाराणसी में 14 मुकदमें दर्ज हैं।

हिस्ट्रीशीट खोलने में जीयनपुर अव्वल
जिले के एसपी अनुराग आर्य के निर्देश पर जिले के सभी थानों पर अपराधियों की हिस्ट्रीशीट खोली जा रही है। अपराधियों की हिस्ट्रीशीट खोलने में जीयनुपर थाना अव्वल रहा। जीयनपुर में 32 अपराधियों की हिस्ट्रीशीट खोली गई, जबकि कोतवाली नगर और कप्तानगंज थाने में मात्र एक-एक हिस्ट्रीशीट खोलकर खानापूर्ति की गई है। इसके साथ ही बरदह थाने में 15, गम्भीरपुर में 14, निजामाबाद में 13, देवगांज में 13, तरवां थाने में 12, रानी की सराय और मुबारकपुर थाने में 11-11 अपराधियों की हिस्ट्रीशीट खोली गई है। जबकि जिले के अन्य थानों में यह संख्या लगातार कम होती गई।

आजमगढ़ पुलिस ने संगठित अपराध करने वाले गिरोहों के विरूद्ध चलाया अभियान, 23 गैंग रजिस्टर्ड।
आजमगढ़ पुलिस ने संगठित अपराध करने वाले गिरोहों के विरूद्ध चलाया अभियान, 23 गैंग रजिस्टर्ड।

संगठित अपराध करने वाली 23 गैंग रजिस्टर्ड
आजमगढ़ जिले में 69 मुकदमों में 344 अपराधियों पर कार्रवाई की गई है। जिले में 930 अपराधियों के विरूद्ध गुंडा एक्ट, 138 को जिला बदर, 224 अपराधियों की हिस्ट्रीशीट खोली गई है। जिले के 428 आरोपियों पर गैंगेस्टर के तहत कार्रवाई की गई है। इसके साथ ही संगठित अपराध करने वाली 23 गैंग को रजिस्टर्ड किया गया है, जिससे जिले में आपराधिक घटनाओं पर रोक लगाई जा सके। इसके साथ ही माफियाओं की अवैध संपत्तियों को लगातार 14 A गैंगेस्टर अधिनियम के तहत कुर्क भी किया जा रहा है, जिससे जिले में आपराधिक घटनाओं पर रोक लगाई जा सके।

खबरें और भी हैं...