आजमगढ़ के 101 विद्यालयों के कर्मचारियों का रोका गया वेतन:नामांकन में लापरवाही करने का आरोप, निर्धारित लक्ष्य भी पूरा नहीं कर पा रहे शिक्षक

आजमगढ़3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
आजमगढ़ जिले में नामांकन पर लापरवाही बरतने वाले 101 विद्यालयों के कर्मचारियों को रोका गया वेतन, खंड शिक्षा अधिकारी डॉली मिश्रा बोली नामांकन बढ़ाएं शिक्षक। - Dainik Bhaskar
आजमगढ़ जिले में नामांकन पर लापरवाही बरतने वाले 101 विद्यालयों के कर्मचारियों को रोका गया वेतन, खंड शिक्षा अधिकारी डॉली मिश्रा बोली नामांकन बढ़ाएं शिक्षक।

यूपी की योगी सरकार ने प्राइमरी स्कूलों में नामांकन बढ़ाने का निर्देश दिया है। सरकार द्वारा दिए गए इस निर्देश को लेकर जिले के शिक्षक कितना गंभीर हैं, इसका अंदाजा इस बात से लगाया जा सकता है कि प्राइमरी स्कूलों में नामांकन नहीं बढ़ पा रहा है। ऐसे में इन सभी स्कूलों के कर्मचारियों के वेतन रोकने के निर्देश दिए हैं।

अजमतगढ़ ब्लाक के 101 विद्यालयों का रोका गया वेतन
दैनिक भास्कर से बातचीत करते हुए अजमतगढ़ ब्लाक की खंड शिक्षा अधिकारी डॉली मिश्रा ने बताया कि शासन द्वारा जो निर्धारित लक्ष्य रखा गया है वह भी शिक्षक पूरा नहीं कर पा रहे हैं। ऐसे में ब्लाक के 101 विद्यालयों के कर्मचारियों का वेतन अग्रिम आदेशों तक रोक दिया गया है। डॉली मिश्रा ने बताया कि प्रति स्कूल 46 नामांकन का लक्ष्य है, जिसे भी शिक्षकों द्वारा अभी तक पूरा नहीं कराया जा सका है। स्कूलों में नामांकन बढ़ाने के लिए सांस्कृतिक कार्यक्रमों के आयोजन का भी निर्देश दिया गया है। इसके बाद भी इन शिक्षकों की लापरवाही के कारण नामांकन नहीं बढ़ रहा है।

यह है जमीनी हकीकत
जिले के अजमतगढ़ ब्लाक में नामांकन की प्रगति का अंदाजा यहां के नामांकन से लगाया जा सकता है। अजमतगढ़ ब्लाक के प्राथमिक विद्यालय बलपुर में दो, प्राथमिक विद्यालय लखमी रौहुआर में चार, प्राथमिक विद्यालय मोहम्मदपुर में पांच, प्राथमिक विद्यालय भदांव में पांच नामांकन हुए हैं। ऐसे में समझा जा सकता है कि प्राथमिक स्कूलों के शिक्षक नामांकन बढ़ाने को लेकर कितना गंभीर हैं।

साढ़े 63 हजार हुआ नामांकन
जिले के बेसिक शिक्षा अधिकारी अतुल सिंह का कहना है कि सरकार के अभियान को हम पूरा करने के प्रयास में लगे हुए हैं। अभी तक हमने 63 हजार 500 का लक्ष्य पूरा किया है। जल्द ही हम लक्ष्य प्राप्त कर लेंगे। शिक्षा अधिकारी का कहना है कि इस अभियान का मुख्य मकसद यह है कि इन स्कूलों में नामांकन बढ़ाया जा सके। इस अभियान के लिए जिले के बड़ी संख्या में शिक्षकों को लगाया गया है, जो गांव-गांव जाकर बच्चों के अभिभावकों से मिलकर उन्हें अपने बच्चों को इन परिषदीय विद्यालयों में भेजने का आग्रह करेंगे, जिससे इन परिषदीय विद्यालयों में नामांकन बढ़ सके। सरकार के निर्देश पर शुरू किए गए इस अभियान के तहत लगातार शिक्षक गांव-गांव जाकर लक्ष्य प्राप्त करने की कोशिश में लगे हुए हैं। स्कूल चलो अभियान का मुख्य मकसद सरकारी स्कूलों में अधिक से अधिक बच्चों का दाखिला कराना है। सरकार ने जिले में 81118 नामांकन का लक्ष्य रखा हुआ है। खराब प्रगति वाले तीन खंड शिक्षा अधिकारियों का वेतन रोकने का निर्देश दिया गया है। इनमें अहिरौला, अजमतगढ़ व अतरौलिया प्रमुख हैं।

खबरें और भी हैं...