आजमगढ़ में जवान को दी गई अंतिम विदाई:चीन बार्डर पर हालत हुई थी गंभीर, सेना के अस्पताल में टूटी थी सैनिक की सांस

आजमगढ़2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
आजमगढ़ के सरायमीर में दीपावली के दिन पहुंचा सैनिक का शव, सेना के जवानों व बड़ी संख्या में लोगों ने किया अंतिम संस्कार। - Dainik Bhaskar
आजमगढ़ के सरायमीर में दीपावली के दिन पहुंचा सैनिक का शव, सेना के जवानों व बड़ी संख्या में लोगों ने किया अंतिम संस्कार।

आजमगढ़ जिले के सरायमीर थाना क्षेत्र के नंदाव गांव में आज सैनिक का शव पहुंचा। नंदाव के रहने वाले कृपा शंकर यादव सेना में भर्ती हुए थे। पदोन्नति पाकर कृपा शंकर यादव सूबेदार रैंक तक पहुंच गए थे। भारत के लेह चीन सीमा पर तैनात कृपाशंकर सीमा पर हो रही गतिविधियों के दौरान दिक्कतें आई जिसके बाद उन्हें सेना के अस्पताल में भर्ती कराया गया। हालत गंभीर होने पर 4 दिन पहले लखनऊ के कमांड हास्पिटल में रेफर किया गया था, जहां इलाज के दौरान जवान की मौत हो गई। जवान की मौत के बाद सेना के जवानों के साथ जवान का शव आज पैतृक गांव पहुंचा जहां अंतिम संस्कार किया गया। दीपावली के दिन शहीद जवान का शव गांव में पहुंचने के बाद हर कोई गमगीन नजर आया। शहीद के अंतिम संस्कार में बड़ी संख्या में लाेग शामिल हुए।

सेना के जवानों ने दी सलामी
अपने साथी सैनिक को सलामी देने के लिए सूबेदार शाहनवाज़ के नेतृत्व में 15 जवानों की टीम के परंपरागत सलामी देने के बाद फूलपुर के दुर्बासा धाम पर अंतिम संस्कार किया गया। शहीद सूबेदार के 3 बेटे हैं। घर पर शव पहुंचते ही परिजनों में कोहराम मच गया। हालांकि सेना के आए जवानों ने परिजनों को सांत्वना देने के साथ अपने साथी के अंतिम संस्कार में शामिल हुए।