आजमगढ़ के सात लाख 92 हजार घरों पर लगेगा तिरंगा:प्रभारी मंत्री ने जिले के विकास कार्यों की समीक्षा, CUG नंबरों पर सक्रिय रहें अधिकारी

आजमगढ़4 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
आजमगढ़ जिले के अधिकारियों के साथ समीक्षा बैठक करते प्रदेश सरकार के विज्ञान और प्रौद्योगिकी मंत्री योगेन्द्र उपाध्याय। - Dainik Bhaskar
आजमगढ़ जिले के अधिकारियों के साथ समीक्षा बैठक करते प्रदेश सरकार के विज्ञान और प्रौद्योगिकी मंत्री योगेन्द्र उपाध्याय।

आजमगढ जिले के दौरे पर पहुंचे प्रदेश सरकार के विज्ञान और प्रौद्योगिकी मंत्री योगेन्द्र उपाध्याय ने आजमगढ़ के अधिकारियों के साथ कलेक्ट्रेट परिसर में समीक्षा बैठक की। प्रभारी मंत्री जी ने समस्त अधिकारियों को निर्देशित करते हुए कहा कि सरकार द्वारा चलायी जा रही जन कल्याणकारी योजनाओं को समाज के अन्तिम व्यक्ति को लाभ दिये जाने के लिए जन प्रतिनिधियों के साथ बैठक कर उनका सहयोग लिया जाय। यह भी निर्देश दिया कि अपने कार्यां में किसी भी प्रकार की लापरवाही न करें। जिले के आला अधिकारियों से जिले के विकास कार्यों की समीक्षा करते हुए इन्हें जल्द पूरा कराने का निर्देश भी दिया। जिले में विश्वविद्यालय के साथ कई निर्माणाधीन काम चल रहे हैं, जिन्हें जल्द से जल्द पूरा कराने का भी निर्देश दिया।

सात लाख 92 हजार घरों पर लगेगा तिरंगा
प्रभारी मंत्री योगेन्द्र उपाध्याय का कहना है कि हर घर तिरंगा कार्यक्रम के तहत जिले के सात लाख 92 हजार घरों पर झंडा लगाने का लक्ष्य रखा गया है। इसके तहत 3 लाख 75 हजार झण्डे एमएसएमई से प्राप्त होगा, 4 लाख 25 हजार झण्डे स्वयं सहायता समूहों से बनवाये जा रहे हैं, जिसमें से 1 लाख 75 हजार झण्डे बनाये जा चुके हैं, बाकी झण्डे 31 जुलाई तक पूर्ण कर लिये जायेंगे। झण्डों का वितरण करने के लिए ग्रामवार कार्ययोजना तैयार कर ली गयी है।

सीयूजी पर सक्रिय रहें अधिकारी
प्रभारी मंत्री ने जिले के समस्त अधिकारियों को निर्देश देते हुए कहा कि अपने सीयूजी नम्बर को हमेश सक्रिय रखें, आम जनता और जन प्रतिनिधियों के फोन जाने पर उनका जवाब तत्काल दें एवं उनकी शिकायतों का गुणवत्ता युक्त त्वरित निस्तारण कराना सुनिश्चित करें। जिले में जो भी निर्माणाधीन परियोजनाएं हैं, उसे जल्द से जल्द निर्धारित समयावधि में पूर्ण करायें। जिले में महाराजा सुहेलदेव राज्य विश्वविद्य़ालय आजमगढ़ चल रहे निर्माण कार्य की समीक्षा की गयी। परियोजना की लागत 108.05 करोड़ रू है, जिसका कार्य 21 मार्च 2022 से प्रारम्भ है, जिसमें अब तक 17 करोड़ की राशि स्कीकृत की जा चुकी है। प्रभारी मंत्री ने राष्ट्रीय ग्रामीण आजीविका मिशन के अन्तर्गत 10 बीसी सखियों को ग्रामीण क्षेत्रों में अच्छा कार्य करने पर एक-एक साड़ी देकर सम्मानित किया गया। इसी के साथ ही 5 स्वयं सहायता समूहों को 1-1 लाख के सीसीएल का डेमो चेक दिया गया। प्रधानमंत्री आवास योजना (शहरी) के अन्तर्गत पांच लाभार्थियों को आवास के प्रथम किस्त 50 हजार रूपए की स्वीकृत पत्र दिया गया।