मौर्या दंपत्ति मर्डर मामले में दो आरोपी गिरफ्तार:आजमगढ़ पुलिस की विवेचना में सामने आए दो आरोपी, पुलिस ने खंगाले 37 CCTV, 32 लोगों से हुई पूछतॉछ

आजमगढ़3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
आजमगढ़ जिले की पुलिस ने मौर्या दंपत्ति मर्डर केस की विवेचना में आए दो आरोपियों को किया गिरफ्तार। - Dainik Bhaskar
आजमगढ़ जिले की पुलिस ने मौर्या दंपत्ति मर्डर केस की विवेचना में आए दो आरोपियों को किया गिरफ्तार।

आजमगढ़ जिले में 15 जून को हुई मौर्या दंपत्ति हत्याकांड की विवेचना में नाम आने पर दो आरोपियों को पुलिस ने गिरफ्तार किया है। इस मामले में मृतक के परिजनों ने अहिरौला थाने में 15 जून को मुकदमा दर्ज कराया था कि चाचा इन्द्रपाल मौर्य और शकुंतला मौर्या 14 जून को शाहगंज दवा लने गए थे। इन दोनो लोगों का शव 16 जून को थाना फूलपुर के अंबारी में बरामद हुआ था। घटना की जानकारी मिलते ही पुलिस ने घटनास्थल का निरीक्षण किया था। जिले में हुए इस डबल मर्डर को लेकर पीड़ितों से प्रदेश के डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्य ने भी मुलाकात की थी।

आजमगढ़ जिले में हुए मौर्या दंपत्ति मर्डर के खुलासे के लिए जिले के एसपी अनुराग आर्य ने गठित की है चार टीमें।
आजमगढ़ जिले में हुए मौर्या दंपत्ति मर्डर के खुलासे के लिए जिले के एसपी अनुराग आर्य ने गठित की है चार टीमें।

मामले के खुलासे के लिए एसपी ने गठित की थी चार टीमें
आजमगढ़ जिले के इस ब्लाइंड मर्डर केस को सुलझाने के लिए जिले के एसपी अनुराग आर्य ने चार टीमों का गठन किया था, जिससे मामले का खुलासा हो सके। जिले की पुलिस ने इस मामले में शाहगंज बाजार व आस-पास के रास्तों पर लगें कुल 37 सीसीटीवी कैमरों की फुटेज का अध्ययन करने के साथ मृतक के परिवारजनों व रिश्तेदारों की आशंका के साथ-साथ पुलिस टीमों द्वारा किये जा रहें अनुसंधान के दौरान संदेह के आधार पर कुल 32 व्यक्तियों से कई चक्र पूछताछ की गयी। इस दौरान पुलिस द्वारा आठ व्यक्तियों का उनकी स्वेच्छा से POLYGROPH TEST(लाई डिटेक्टर टेस्ट) भी लैब भेजकर कराया गया। एसपी अनुराग आर्य का कहना है कि इस घटना में शामिल अन्य अभियुक्तों की संलिप्तता के बारे में विवेचना की जा रही है।

विवेचना में आए दो नाम
इस मामले की विवेचना में पुलिस के सामने दो नाम आए हैं। इनमें एक रवि सिंह पुत्र कमला सिंह और प्रशांत सिंह उर्फ कृष्ण कुमार सिंह पुत्र बलदेव सिंह जो कि अहिरौला थाने के रहने वाले हैं। अभियुक्त रवि सिंह पर गुंडा एक्ट सहित पांच मुकदमें दर्ज हैं। विवेचना में यह बात भी सामने आई कि रवि सिंह से मृतक परिवार की प्रधानी सम्बन्धित मुद्दों को लेकर रंजिश के साथ-साथ मृतक को आवंटित पट्टे की जमीन को लेकर रवि सिंह द्वारा मुकदमेंबाजी भी की गई थी। पूर्व में जान से मारने की धमकी दिये जाने की बात भी प्रकाश में आयी है। अभियुक्त प्रशान्त सिंह के घर के सामने मृतक का जमीन का पट्टा था जिसकों लेकर अभियुक्त चाहता था कि मृतक यह जमीन छोड़ दे। इसके साथ-साथ अभियुक्त द्वारा कोटेदारी के समूह को लेकर भी मृतका से विवाद करने व अनुचित अपेक्ष्य रखने की बात भी प्रकाश में आई है।