फूलपुर विद्युत उपकेंद्र तालाब में तब्दील:बारिश में तालाब में तब्दील हो जाता है विद्युत उपकेंद्र, वर्षों से चली आ रही समस्या, नहीं हो रही समाधान

फूलपुर, आजमगढ़20 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

बारिश के महीनें में फूलपुर विद्युत उपकेंद्र तालाब में तब्दील हो जाता है। वर्षों से चली आ रही यह समस्या उच्चाधिकारियों के संज्ञान में होने के बावजूद भी जस की तस बनी हुई है। जिसके चलते कभी भी करोड़ों के उपकरण नष्ट हो सकते हैं।

उपकेंद्र के आस पास भवन निर्माण होने के साथ साथ जल निकासी के बने नाले विलुप्त हो गए। जिसके चलते हर साल 4 महीनें उपकेंद्र तालाब में तब्दील हो जाता है। तालाब में तब्दील उपकेंद्र पर क्षेत्रीय लोगों का छोड़िए कर्मचारी और अधिकारियों का उपकेंद्र पर पहुंचना टेढ़ी खीर साबित होता है, दो दिन की वर्षा ने पुनः एक बार पूर्व के वर्षों की याद ताजा कर दी और वर्तमान समय मे बिजली समाधान सप्ताह के रूप में बिजली उपभोक्ताओं की समस्या के लिए लगाए गए कैम्प का स्थल बदलकर सुदनीपुर ग्राम पंचायत में बने तहसील बिद्युत सब स्टेशन प्रागण में समाधान शप्ताह के रूप में उवभोक्तावो की समस्या का निस्तारण किया जा रहा है।

फूलपुर विद्युत उपकेंद्र तालाब में तब्दील
फूलपुर विद्युत उपकेंद्र तालाब में तब्दील

उपभोक्ता गन्दे पानी के बीच से होकर कार्यालय रहे पहुंच
बिजली उपभोक्ता अपनी समस्याओं को लेकर बिजली सब स्टेशन 33।11 के प्रागण में गन्दे पानी के बीच कार्यालय पहुंच रहे हैं। वहां बैठे कर्मचारी के बताने पर विद्युत सब स्टेशन सुदनीपुर पहुंच रहे है। यह जलजमाव नालों पर अतिक्रमण की समस्या वर्षो से चल रही है। जलजमाव सेबड़ा ट्रांसफार्मर भी जल चुका है। पर आज तक जल निकासी की समुचित व्यवस्था स्थानीय अधिकारी सहित जिले के बिजली उच्चाधिकारियों द्वारा नहीं की जा सकी है। क्षेत्र वासी बिजली समस्या समाधान के लिए गन्दे जलजमाव के बीच बिद्युत उपकेंद्र33/11 पर पहुंचते हैं।

उच्चाधिकारियों को दी गई जानकारी
स्थानीय अधिकारियों ने इसकी शिकायत उच्चाधिकारियों के की है। जांच के लिए अधीक्षण अभियंता भी आ चुके हैं। लेकिन उपकेंद्र तालाब ही बना रह गया है। एसडीओ फूलपुर बिनोद कुमार ने बताया कि इसकी सूचना विभागीय उच्चाधिकारियों को दी गयी है। अधीक्षण अभियंता भी जांच कर चुके हैं। लेकिन स्थिति जस की तस बनी हुई है।

खबरें और भी हैं...