निजामाबाद में कार्तिक पूर्णिमा पर लगेगा मेला:3 दिन तक चलेगा मेला, स्नान के लिए पूरे प्रदेश से जुटते हैं लोग

फूलपुर, आजमगढ़एक महीने पहले
  • कॉपी लिंक

निजामाबाद तहसील क्षेत्र में कार्तिक पूर्णिमा पर पौराणिक स्थल दुर्वासा धाम पर लगने वाले 3 दिवसीय मेले की तैयारियां चल रहीं हैं। 8 नवम्बर को मुख्य मेला लगेगा।

मेला कमेटी द्वारा सभी तैयारियों को अंतिम रूप दिया जा रहा है। तीन दिवसीय मेला के मद्देनजर 7 नवम्बर से भीड़ जुटनी शुरू हो जाएगी।

8 नवम्बर को तमसा मंजूषा संगम तट पर स्नान के लिये दर्शनार्थियों का हुजूम जुटेगा। श्रद्धालुओं के स्नान के लिए मंदिर के सामने ही स्थान सुरक्षित किया गया है। यहां फूल बेचने वालों की दुकानें सज गईं हैं। दुर्वासा में कई स्थानों पर दुकानें भी सजाई जा रही है। सुरक्षा की दृष्टि से फूलपुर, अहरौला, निज़ामाबाद, सरायमीर थानों की पुलिस तैनात रहेगी।

अस्थायी दुकानें लगती हैं

मेला क्षेत्र में बाहरी और अस्थायी दुकानें लगती हैं। दुर्वासा धाम तक पहुंचने के लिए डग्गामार वाहन लोगों से अधिक किराया वसूलने में लगे हैं। प्रदेश सरकार के निर्देश के बावजूद अभी फूलपुर से दुर्वासा जाने वाली सड़क की मरम्मत नहीं कराई गई। मेला में खझला ,मिठाई, झूला , चरखी आदि लगने लगी ।

तैयारियों में जुटे समाजसेवी

समाज सेवा में लगे प्रधान दुर्वासा ओमप्रकाश यादव, पूर्व प्रधान रामकेवल तिवारी, बलराम तिवारी, प्रेमचन्द गिरी और स्वयंसेवी संस्थाओं की ओर से बेहतर इंतजाम किए जा रहे हैं। मेले का निरीक्षण फूलपुर उपजिलाधिकारी नरेंद्र गंगवार और निजामाबाद एसडीएम रवि प्रकाश ने किया।

दुर्वासा धाम गोस्वामी सेवा समिति के अध्यक्ष प्रेमचंद के मुताबिक मेला क्षेत्र में काफी संख्या में सफाई कर्मियों को लगाया गया है। झूला, चरखा, मौत का कुवां, ब्रेक डांस, सर्कस, कला जादू लगाए जा रहे हैं। क्षेत्राधिकारी फूलपुर अनिल कुमार वर्मा का कहना है कि मेला सुरक्षा के लिए कई थानों की पुलिस एवं पीएसी लगाई जाएगी।

निजामाबाद में कार्तिक पूर्णिमा मेले की तैयारियां शुरू हो गई हैं।
निजामाबाद में कार्तिक पूर्णिमा मेले की तैयारियां शुरू हो गई हैं।
निजामाबाद में कार्तिक पूर्णिमा मेले की तैयारियां शुरू हो गई हैं।
निजामाबाद में कार्तिक पूर्णिमा मेले की तैयारियां शुरू हो गई हैं।

पौराणिक मान्यता है कि कार्तिक पूर्णिमा माह में विभिन्न नदियों के संगम में स्नान करने पर अत्यधिक पुण्य मिलता है। कार्तिक पूर्णिमा के दिन दुर्वासा में किए गए स्नान का विशेष महत्व है। प्रदेश के कोने कोने से स्नान करने के लिए श्रद्धालुओं की भीड़ उमड़ती है।

खबरें और भी हैं...