सहसवान में 4 लोगों पर गिरी दीवार, 2 की मौत:दीवार किनारे अलाव जलाकर ताप रहे थे, अचानक से ऊपर गिरी दीवार, 2 गंभीर

सहसवान7 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
घायलों को जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया है। वहीं पुलिस ने शव पोस्टमार्टम को भेज दिए हैं। - Dainik Bhaskar
घायलों को जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया है। वहीं पुलिस ने शव पोस्टमार्टम को भेज दिए हैं।

बदायूं के सहसवान में दीवार के सहारे अलाव जलाकर ताप रहे लोगों पर कच्ची दीवार रविवार दोपहर मौत बनकर गिरी। हादसे में दो लोगों की मौत हो गई, जबकि दो गंभीर रूप से घायल हुए हैं। घायलों को जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया है। वहीं पुलिस ने शव पोस्टमार्टम को भेज दिए हैं।

हादसा सहसवान कोतवाली क्षेत्र के ग्राम इब्राहिमपुर गढ़ी में हुआ। यहां रहने वाले नरेश नाम के व्यक्ति की पुत्रवधू ने बेटी को जन्म दिया था। कुछ देर बाद इस नवजात बच्ची की मौत हो गई। इस पर गांव के तमाम लोग इस गम में शामिल होने वहां पहुंचे थे। इन लोगों में शामिल रूम सिंह 60 वर्ष, नरेश पाल 55 वर्ष और रायसिंह व अवधेश 16 वर्ष पुत्र मनवीर भी पहुंचे थे। पास में ही रहने वाले नरेश पाल की पशुशाला की दीवार के बराबर में अलाव जलाकर ये लोग ताप रहे थे। अचानक दीवार ढह गई और चारों लोग मलबे में दब गए।

गंभीर घायलों को जिला अस्पताल रेफर किया

चीख पुकार सुन गांव वाले पहुंचे। आनन-फानन में मलबा हटाकर बमुश्किल चारों को निकाला गया लेकिन तब तक रूम सिंह और नरेश की मौत हो चुकी थी। जबकि बाकी के दोनों को घायलावस्था में सीएचसी लाया गया। यहां प्राथमिक इलाज के बाद दोनों की हालत गंभीर देखते हुए उन्हें जिला अस्पताल रेफर कर दिया है।

घरों में मचा कोहराम, गलियों में सन्नाटा

गांव में हुए हादसे का शिकार हुए परिवारों में कोहराम मच गया है। जो जिस हाल में था, वह गांव से सीधा जिला अस्पताल को रवाना हो गया है। परिवारों में केवल महिलाएं व बच्चे हैं जो चीत्कार कर रही हैं। किसी को अपनों की मौत का मलाल है तो किसी को अपनों की जान की चिंता। कुल मिलाकर अचानक हुए इस हादसे ने तकरीबन ढाई हजार की आबादी वाले समूचे गांव को हिला कर रख दिया है।

प्रशासन को भेजी जाएगी रिपोर्ट

कोतवाल सहसवान संजीव कुमार शुक्ला ने बताया कि हादसे में दो लोगों की मौत हुई है। जबकि दो लोग घायल हुए हैं। दीवार कच्ची थी और गिरताऊ हालत में थी। उन्होंने बताया कि शवों को पोस्टमार्टम के लिए भेजा गया है। इसकी रिपोर्ट प्रशासन को सौंपी जाएगी, ताकि मुआवजे की प्रक्रिया भी पूरी हो सके।