बंदर ने पानी के ड्रम में फेंका, मासूम की मौत:बागपत में मां के साथ सो रहे डेढ़ माह के बच्चे को उठा ले गया था

बागपत7 महीने पहले

बागपत में एक बंदर ने एक डेढ़ साल के मासूम को पानी की टंकी में फेंक दिया। टंकी में डूबने से मासूम की मौत हो गई। मामला चांदीनगर थाना के गढ़ी कलंजरी गांव का है। परिवार के लोगों ने बताया कि बच्चा अपनी मां के पास शनिवार रात में सोया हुआ था। तभी बंदर बच्चे को उठाकर ले गया। रात में जब मां की आंख खुली, तो उसने बच्चे की तलाश शुरू की। बहुत तलाशने के बाद भी बच्चे का कुछ पता नहीं चला।

परिवार के लोगों की नजर घर में रखे पानी के ड्रम पर पड़ी। जब उन लोगों ने पास जाकर देखा, तो उसमें उन लोगों का मासूम का शव पड़ा मिला। परिवार के लोग बच्चे को पास के अस्पताल लेकर गए। वहां से उसे दिल्ली भेज दिया गया। कुछ देर रखने के बाद डॉक्टरों ने बच्चे को मृत घोषित कर दिया।

इसी ड्रम में मिला था बच्चे का शव।
इसी ड्रम में मिला था बच्चे का शव।

मेरे लाल को बंदर ने मार दिया

परिवार का कहना है कि बंदर मासूम पर पहले भी तीन बार हमला कर चुका था, लेकिन तब बच्चे को कोई नुकसान नहीं पहुंचा था, इस बार बंदर ने हमारे बच्चे को मार दिया। बच्चे की मां का रो-रोकर बुरा हाल है। वह बार-बार एक ही बात की रट लगाए हुए है, 'मेरा लाल मेरे पास सोया था। अब मैं किसको अपने पास सुलाऊंगी। मुझे मेरा लाल वापस कर दो'। परिवार ने बताया कि डेढ़ साल पहले दोनों की शादी हुई थी। अभी डेढ़ महीने पहले दोनों को लड़का हुआ था। परिवार में सब बहुत खुश थे, लेकिन उसे पहले ही भगवान ने हमारी खुशी छीन ली।

स्थानीय लोग बोले, 3 दिन में 25 लोगों को घायल कर चुका है ये बंदर।
स्थानीय लोग बोले, 3 दिन में 25 लोगों को घायल कर चुका है ये बंदर।

पहले भी कई बार चुका है हमला

स्थानीय लोगों ने प्रशासन पर आरोप लगाते हुए कहा कि हमारे इलाके में बंदरों का आतंक बहुत दिनों से है। लोगों ने कई बार शिकायत की लेकिन कोई फायदा नहीं हुआ है। इस बंदर ने 3 दिन के अंदर 25 लोगों को घायल कर दिया था। एक बार तो इसने एक युवक का हाथ बुरी तहर जख्मी कर दिया था। घर के सामान को भी उठा ले जाता है। लोग छत पर नहीं जा सकते हैं।