बलिया में 4 वर्षीय बालक की डूबने से मौत:दादा की श्राद्ध में शामिल होने गया था मासूम, मां ने लंबी उम्र के लिए रखा था जीवित्पुत्रिका व्रत

बांसडीह16 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
मृतक सचिन जायसवाल - Dainik Bhaskar
मृतक सचिन जायसवाल

बलिया के एक गांव में 4 वर्षीय बालक की तालाब में डूब गया। घटना की जानकारी होने पर परिजनों ने उसे तालाब से निकला और स्थानीय सीेएचसी ले गए। जहां डॉक्टरों ने परीक्षण के बाद उसे मृत घोषित कर दिया। घटना की सूचना मिलते हुई बेटे के लिए आज जीवित्पुत्रिका का व्रत रखने वाली मां बेसुध हो गई। वहीं परिजनों का रो रोकर बुरा हाल है।

बलिया जिले के सिकंदरपुर कस्बा के भीखपुरा मुहल्ला निवासी सचिन जायसवाल का 4 वर्षीय पुत्र रजत जायसवाल अपने दादा के श्राद्ध में शामिल होने के लिए परिजनों के साथ कस्बे के हिरन्दी स्थित तालाब पर गया था। परिजनों के मुताबिक खेलते-खेलते रजत अचानक तालाब में चला गया और जब लोगों की नजर पड़ी तो वह डूब चुका था।

आस-पास के लोगों की मदद से तालाब से निकालकर उसे समुदायिक स्वास्थ्य केंद्र सिकंदरपुर पहुंचाया गया। जहां चिकित्सकों ने परीक्षण के बाद रजत को मृत घोषित कर दिया।

बेटे के लिए मां ने रखा था व्रत
इस घटना से जहां पूरे मुहल्ले में शोक की लहर दौड़ गई। वहीं परिवार में कोहराम मच गया। तीन भाई और दो बहनों में रजत सबसे छोटा था। वहीं जिस बेटे के लिए मां ने निर्जल जीवितपुत्रिका व्रत रखा था। वह व्रती मां डोली जायसवाल पुत्र के गम में बेसुध पड़ी है।

25 साल पहले हुई थी दादा की मौत
आस-पास के लोगों की भीड़ उनके दरवाजे पर जुटी है। बताया जाता है करीब 25 साल पहले रजत के दादा राम चंदर जायसवाल अचानक गायब हो गए थे। जो इतना समय बीत जाने के बाद अभी तक वापस नहीं लौटे। इस लिए परिजनों ने उन्हें मरा हुआ मानकर पुतला दहन कर उनकी अंतिम क्रिया का निर्णय लिया। इसी क्रम में रजत परिजनों के साथ अपने दादा के श्राद्ध के लिए गया था।

खबरें और भी हैं...