बैरिया में प्रेम-प्रसंग का अनूठा मामला:शादी के तीन साल बाद भी प्रेमी को नहीं भुला पा रही थी प्रेमिका, पति ने करा दी शादी

बैरिया3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

बलिया के बैरिया में प्रेम-प्रसंग का अनूठा मामला सामने आया है। यहां पति को प्रेम प्रसंग के बारे में पता चला तो उसने खुद अपने परिजनों के साथ मिलकर पत्नी की शादी उसके प्रेमी के साथ करा दी। यह शादी लालगंज मठिया पर पंचों की मौजूदगी में संपन्न हुई। जो क्षेत्र में चर्चा का विषय बनी हुई है।

एक-दूसरे को पहनाई माला

"प्यार दीवाना होता है" यह बात विवाहिता ने शादी के तीन साल बाद अपने पुराने प्रेमी से शादी कर चरितार्थ कर दिया। पति व उसके परिजनों के सहयोग से पंचों की उपस्थिति में प्रेमी-प्रेमिका ने एक-दूसरे को माला पहनाई। इसके बाद वह अपनी नई ससुराल के लिए विदा हो गई। हांलाकि इस दौरान लड़की के परिजन शामिल नहीं हुए।

बता दें कि, क्षेत्र के बाबू के शिवपुर निवासी रवि की शादी वर्ष 2019 में बैरिया थाना क्षेत्र के नई बस्ती बाज राय के टोला में हुई थी। इसी बीच पता चला कि पत्नी का प्रेम प्रसंग पहले से ही दोकटी थाना क्षेत्र के दलकी नंबर दो निवासी एक युवक से चल रहा है।

रिश्तेदार से हो गया प्रेम

दरअसल, रवि और उसकी पत्नी परिवार से अलग अपने दूसरे घर में अकेले रहते थे। हाल फिलहाल उन्हें कोई संतान नहीं थी। शादी के तीन-चार महीने बाद रवि का दूर का रिश्तेदार शिवशंकर राम जो पड़ोस के गांव दलकी नं. 2 का रहने वाला है, उसका रवि के यहां आना-जाना होने लगा। इसी दौरान उसके और रवि की पत्नी रिंकू के बीच प्रेम-प्रसंग चलने लगा। अब शिवशंकर प्रायः रवि के यहां आने जाने लगा।

रवि ईंट-भट्ठे में मजदूरी करता है। कई बार वह रात को घर वापस नहीं लौट पाता तो पत्नी रिंकू प्रेमी शिवशंकर को घर बुला लेती। हाल ही में रवि को दोनों के प्रेम-प्रसंग की जानकारी हो गई। इसके बाद रवि ने रिंकू को समझाया लेकिन वह नहीं मानी। दोनों का प्रेम पहले से अधिक प्रगाढ़ होता गया। अंततः रवि और उसके परिजनों ने रिंकू और शिवशंकर की शादी करा दी।

पति रवि और उसके परिजनों ने इस बारे में क्षेत्र के संभ्रांत लोगों और विवाहिता के मायके वालों को बताया। इसके बाद पंचायत बुलाई गई। साथ ही विवाहिता व प्रेमी के घर वालों को भी बुलाया गया। विवाहिता के पिता ने यह कहकर पंचायत में आने से इंकार कर दिया कि जैसा ससुराल वालों को उचित लगे करें। हमें लड़की से कोई मतलब नहीं।

एक-दूसरे के हुए प्रेमी-प्रेमिका

पंचायत में दोनों पक्षों से बातचीत के बाद निर्णय लिया गया कि विवाहिता की शादी उसके प्रेमी शिवशंकर राम से कर दी जाय। पंचायत में मौजूद सभी लोगों ने इस पर सहमति जताई। पंचायत के निर्णय के अनुसार पंचायतनामा लिखकर प्रेमी युगल की शादी लालगंज मठिया पर करा दी गई। प्रेमी के परिवार वाले वहीं से बहू को विदा कराके अपने साथ लेकर चले गए।

खबरें और भी हैं...