• Hindi News
  • Local
  • Uttar pradesh
  • Ballia
  • Activists Came Out On The Streets For Calling The National President A Ally Of ISI, Said Action Should Be Taken Against Minister Anand Swaroop Shukla

बलिया…सपा को नागवार गुजरी अखिलेश पर टिप्पणी:राष्ट्रीय अध्यक्ष को ISI का साथी बताने पर सड़कों पर उतरे कार्यकर्ता, कहा- मंत्री आनंद स्वरूप शुक्ला पर हो कार्रवाई

बलिया2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
बलिया में सपा को नागवार गुजरी अखिलेश पर टिप्पणी। - Dainik Bhaskar
बलिया में सपा को नागवार गुजरी अखिलेश पर टिप्पणी।

योगी सरकार में मंत्री आनंद स्वरूप शुक्ला द्वारा सपा सुप्रीमो अखिलेश यादव को आईएसआई का साथी बताए जाने पर सपाइयों में आक्रोश है। बलिया जिले में शुक्रवार को सपाइयों ने सपा कार्यालय से डीएम कार्यालय तक जोरदार प्रदर्शन किया। मंत्री पर कार्रवाई की मांग करते हुए प्रशासनिक अधिकारी को ज्ञापन सौंपा। सपा नेताओं ने मंत्री को खुली चुनौती दी। पूर्व मंत्री नारद राय ने कहा कि अगर उन पर एफआईआर दर्ज कर कार्रवाई नहीं हुई तो जिले में मंत्री को प्रवेश नहीं करने दिया जाएगा।

दो दिन पूर्व मंत्री ने दिया था बयान

बता दें कि यूपी के पूर्व मुख्यमंत्री और समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव के 'जिन्ना' वाले बयान के बाद सूबे का सियासी पारा चढ़ गया है। भाजपा ने उन्हें घेरना शुरू कर दिया है। दो दिन पहले प्रदेश सरकार में राज्यमंत्री आनंद स्वरूप शुक्ल ने अखिलेश यादव को पाकिस्तान और खुफिया एजेंसी आईएसआई का साथी करार दिया। उनके इसी बयान को लेकर जिले में सपाई आक्रोशित हैं।

बलिया स्थित अपने आवास पर पत्रकारों से बात करते हुए राज्यमंत्री ने आरोप लगाया था कि अखिलेश पाकिस्तान और आईएसआई के इशारे पर जिन्ना का महिमा मंडन कर रहे हैं। पाकिस्तान और आईएसआई जो चाहते हैं, अखिलेश वही बयान दे रहे हैं।

इस्लामिक देशों के लिए चुनौती बन गए हैं सीएम योगी

आनंद स्वरूप शुक्ल ने कहा था कि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ इस्लामिक देशों के लिए चुनौती बन गए हैं। ऐसे में इस्लामिक देशों से सपा प्रमुख को पूरा समर्थन मिल रहा है। आरोप लगाते हुए कहा कि उन्हें आईएसआई की तरफ से संरक्षण और सुझाव के साथ ही आर्थिक मदद भी मिल रही है। उन्होंने कहा कि सरदार वल्लभ भाई पटेल से जिन्ना की तुलना करना निंदनीय है। अखिलेश यादव को अपने बयान को लेकर माफी मांगनी चाहिए। उन्होंने तंज कसते हुए कहा कि अखिलेश यादव मुस्लिम वोटों के लिए पहले ही रोजा और नमाज पढ़ चुके हैं।