लोहिया वाहिनी के राष्ट्रीय सचिव का ओवैसी पर निशाना:बलरामपुर में भानु त्रिपाठी बोले- अभी ओवैसी की हैसियत नहीं कि मुलायम सिंह यादव पर टिप्पणी कर सकें

बलरामपुर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
लोहिया वाहिनी के राष्ट्रीय सचिव का ओवैसी पर निशाना। - Dainik Bhaskar
लोहिया वाहिनी के राष्ट्रीय सचिव का ओवैसी पर निशाना।

यूपी में विधानसभा चुनाव जैसे-जैसे करीब आ रहे हैं, बयानबाजी का दौर तेज होता जा रहा है। बीते दिनों जिले के उतरौला विधानसभा के महुआ बाजार इलाके में AIMIM के राष्ट्रीय अध्यक्ष असदुद्दीन ओवैसी ने सपा संरक्षक पर बयान देते हुए कहा था कि उत्तर प्रदेश में यादवों की संख्या 9% है, बावजूद इसके उन्होंने दो बार अपना मुख्यमंत्री बना लिया तो क्या प्रदेश के मुसलमान मिलकर AIMIM के 10 से 15 विधायकों को जिताकर विधानसभा नहीं भेज सकते हैं।

इस बयान पर अब समाजवादी पार्टी के लोहिया विंग के राष्ट्रीय सचिव डॉ. भानु त्रिपाठी ने ओवैसी पर पलटवार किया है। उन्होंने कहा है कि ओवैसी की अभी इतनी हैसियत नहीं है कि वह सपा संरक्षक मुलायम सिंह यादव पर टिप्पणी कर सकें। उनका मुलायम सिंह यादव पर टिप्पणी करना सूरज को दिया दिखाने जैसा है। वो ऐसा न करें, यही बेहतर होगा।

बंगाल में बीजेपी को फायदा पहुंचाया

भानु त्रिपाठी यहीं नहीं रुके उन्होंने AIMIM के राष्ट्रीय अध्यक्ष और उनकी पार्टी को महज हैदराबाद की पार्टी बताते हुए कहा कि पहले केवल हैदराबाद में सांप्रदायिक राजनीति कर जीतते थे। अब उत्तर प्रदेश की राजनीति को भी सांप्रदायिक करने के लिए यहां चुनाव लड़ने आए है। इन्होंने चुनाव लड़कर बंगाल में बीजेपी को फायदा पहुंचाया और यही काम इन्होंने बिहार में भी किया है। अब इसी काम की जिम्मेदारी सौंपकर भारतीय जनता पार्टी ने इन्हें उत्तर प्रदेश का जिम्मा दिया, जो इसे पूरी तरह से निभाने में जुटे हुए हैं।

मुसलमान ओवैसी के चक्कर में आने वाला नहीं

सपा नेता डॉ. भानु त्रिपाठी ने कहा कि उत्तर प्रदेश का मुसलमान ओवैसी के चक्कर में आने वाला नहीं है। वह अपना अच्छा बुरा जानता है। वह यह जानता है कि उसका सम्मान किस पार्टी में है और यहां के लोगों ने अब मन बना लिया है कि उत्तर प्रदेश में समाजवादी पार्टी की पूर्ण बहुमत की सरकार को लाना है। इसका ज्वलंत उदाहरण हमारे राष्ट्रीय अध्यक्ष की रैलियों और जनसभाओं में देखने को मिल रहा है। जहां लाखों की संख्या में कार्यकर्ता व आम जनमानस बिना बुलाए ही पहुंच रहे हैं।

भाजपा की बी टीम हैं ओवैसी

इन रैलियों और जनसभाओं में उमड़ रही भीड़ को देखकर भारतीय जनता पार्टी के होश खराब हो रहे हैं। इसीलिए बीजेपी नेता चुनाव को प्रभावित करने के लिए तरह-तरह के बयान दे रहे हैं। वही अपनी ‘बी’ टीम ओवैसी को भी उत्तर प्रदेश में उतार दिया है। लेकिन इनके यह दोनों हथकंडे काम आने वाले नहीं हैं। आने वाले वक्त में उत्तर प्रदेश में समाजवादी पार्टी की पूर्ण बहुमत से सरकार बनेगी और अखिलेश यादव को मुख्यमंत्री बनाया जाएगा।

ओवैसी को हैदराबाद के लिए रवाना कर देंगे

वहीं अल्पसंख्यक समुदाय में खासा रसूख रखने वाले, पूर्वांचल की सियासत को कई बार प्रभावित करने वाले पूर्व सपा सांसद रिजवान जहीर ने भी ओवैसी को आड़े हाथों लेते हुए कहा है कि ओवैसी उत्तर प्रदेश में मेहमान की तरह हैं और मेहमान का सम्मान करना हमारा फर्ज होता है। लेकिन यहां बिरयानी नहीं मिलती क्योंकि ‘बिरयानी तो हैदराबाद की ही मशहूर है’। हमारे यहां साग-भात की परंपरा है। अगर ओवैसी मेहमान की तरह रहना चाहते हैं तो हम उन्हें साग-भात खिलाएंगे और उसके बाद उन्हें हैदराबाद के लिए रवाना कर देंगे।

खबरें और भी हैं...