बलरामपुर में भाजपा व सपा आमने-सामने:भाजपा कार्यकर्ताओं ने जलाया था सपा सुप्रीमो का पुतला, कार्रवाई के लिए पूर्व मंत्री ने सौंपा ज्ञापन

बलरामपुर6 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
डॉ. एसपी यादव की अगुवाई में पूर्व विधायकों के साथ दर्जनों कार्यकर्ता व पदाधिकारियों ने कलेक्ट्रेट पहुंचकर प्रदर्शन किया। - Dainik Bhaskar
डॉ. एसपी यादव की अगुवाई में पूर्व विधायकों के साथ दर्जनों कार्यकर्ता व पदाधिकारियों ने कलेक्ट्रेट पहुंचकर प्रदर्शन किया।

बलरामपुर में भारतीय जनता युवा मोर्चा द्वारा कुछ दिन पहले सपा सुप्रीमो एवं उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव का पुतला जलाने का मामला अब तूल पकड़ता दिख रहा है। आज समाजवादी पार्टी सरकार में चिकित्सा एवं स्वास्थ्य राज्य मंत्री रहे डॉ. एसपी यादव की अगुवाई में पूर्व विधायकों के साथ दर्जनों कार्यकर्ता व पदाधिकारियों ने कलेक्ट्रेट पहुंचकर प्रदर्शन किया और एसडीएम को भारतीय जनता युवा मोर्चा के कार्यकर्ताओं पर विधिक कार्यवाही की मांग करते हुए ज्ञापन सौंपा।

क्या है मामला?

बीते शनिवार को भारतीय जनता युवा मोर्चा के कार्यकर्ताओं ने जिला मुख्यालय के अंबेडकर तिराहे पर इकट्ठा होकर उत्तर प्रदेश सरकार के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव का पुतला दहन किया था। भाजयुमो कार्यकर्ताओं का कहना था कि अखिलेश यादव भारत में रहकर जिन्ना को आजादी दिलाने वाला नायक बताते हैं, अगर इतना ही जिन्ना से प्रेम है तो अखिलेश यादव को पाकिस्तान चले जाना चाहिए।

सपा कार्यकर्ता आक्रोशित

सपा सुप्रीमो के पुतला दहन की इस घटना को लेकर अब समाजवादी पार्टी खासा आक्रोशित दिख रही है। समाजवादी सरकार में चिकित्सा एवं स्वास्थ्य राज्य मंत्री रहे डॉ0 एस0पी0 यादव की अगुवाई में आज पूर्व विधायक व दर्जनों पदाधिकारियों ने जिला कलेक्ट्रेट पहुंचकर जोरदार प्रदर्शन किया और सरकार विरोधी नारे लगाए।

एसडीएम को साैंपा ज्ञापन

पूर्व मंत्री द्वारा एसडीएम को एक ज्ञापन भी सौंपा गया जिसमें समाजवादी पार्टी की तरफ से यह मांग की गई है कि अगर सत्तासीन मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ का पुतला जलाने पर किसी पर भी मुकदमा दर्ज किया जा सकता है तो ऐसे में उत्तर प्रदेश के ही पूर्व मुख्य मुख्यमंत्री रहे अखिलेश यादव का पुतला जलाने पर दोहरा कानून क्यों दिखाया जा रहा है !

उन्होंने मांग करते हुए कहा कि दोनों का कद और पद लगभग बराबर है लाखों-करोड़ों कार्यकर्ताओं व आम जनमानस के बीच अखिलेश यादव लोकप्रिय नेता हैं। ऐसे में उनका पुतला दहन करना हम कार्यकर्ताजन और आम जन की भावनाओं को ठेस पहुंचाने जैसा है। ऐसे में प्रशासन को संज्ञान लेकर उक्त मामले में पुतला जलाने वाले भाजयुमो कार्यकर्ताओं पर कड़ी से कड़ी कड़ी कार्रवाई करनी चाहिए जिससे ऐसी घटना की पुनरावृत्ति दोबारा ना हो।

खबरें और भी हैं...