बांदा में ठंड से अब तक 3 किसानों की मौत:जानलेवा साबित हो रही है बढ़ती ठंड, खेत की सिंचाई करते समय गई जान

बांदा9 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

यूपी में सर्दी का सितम जोरों पर है। ठंड ने आम लोगों का जीना मुहाल कर दिया है। बांदा में ठंड अन्नदाताओं के लिए काल बन गई है और किसान अपनी जान से हाथ धो रहे हैं। 15 दिन के भीतर 3 किसानों ने ठंड से दम तोड़ दिया है। जसपुरा थाना क्षेत्र के गडरिया गांव में बुधवार शाम खेत में पानी लगाने गए किसान की ठंड लगने मौत हो गई।

ठंड से मौत का पहला मामला

बता दें कि बीते साल 26 दिसंबर को जसपुरा थाना क्षेत्र के नानादेव गांव में ठंड लगने से एक किसान की मौत हो गई थी। गांव निवासी रामसुंदर (47) रात को अपने मटर के खेत पानी लगा लगा रहा था, तभी ठंड लगने से अचानक उसके सीने में दर्द होने लगा। खेत में मौजूद उसका बेटा आनन-फानन रामसुंदर को सीएचसी ले गया, जहां डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया।

मृतक किसान रामसुंदर के परिजन।
मृतक किसान रामसुंदर के परिजन।

परिजनों का कहना था कि, रामसुंदर के पास केवल 2 बीघे खेत था। खेती-बाड़ी से ही वह परिवार का पालन-पोषण कर रहा था। पिछले साल बेटी की शादी की थी, जिसमें डेढ़ लाख का कर्ज लिया था, जो अभी तक नहीं भर पाया था।

ठंड से मौत का दूसरा मामला

वहीं ठंड लगने से दूसरी मौत पैलानी थाना क्षेत्र के खपटिहा कला गांव में हुई। 2 जनवरी को सुबह किसान सियाराम तिवारी (72) खेत की सिंचाई कर रहा था। इसी दौरान उसको सर्दी लगने लगी। आनन-फानन में परिजन बैलगाड़ी पर बैठाकर खेत से घर लेकर आए। यहां से उसे जिला अस्पताल में भर्ती कराय, जहां डॉक्टरों ने कानपुर रेफर कर दिया, लेकिन कानपुर ले जाते समय रास्ते में घाटमपुर के पास सियाराम की मौत हो गई।

सीएचसी के बाहर मृतक किसान सियाराम तिवारी के परिजन।
सीएचसी के बाहर मृतक किसान सियाराम तिवारी के परिजन।

ग्रामीण ने बताया कि, सियाराम का इकलौता बेटा मनोज तिवारी रोडवेज में संविदा कर्मचारी था। 3 महीने पहले सड़क दुर्घटना में उसकी मौत हो गई थी। मां अभी बेटे का गम भूली भी नहीं थी कि अब पति को भी खो दिया।

ठंड से मौत का तीसरा मामला

5 जनवरी को जसपुरा थाना क्षेत्र के गडरिया गांव में खेत में ठंड लगने से एक किसान की मौत हो गई। गांव निवासी रामखेलावन (60) शाम को घर से खाना खाकर चंद्रावल नदी के पास स्थित खेत में पानी लगा रहा था। इस दौरान अचानक उसके पेट में दर्द होने लगा और वह खेत में ही गिर पड़ा। आसपास के खेत में काम कर रहे किसानों ने इसकी सूचना पुलिस को दी। खेत पहुंचे परिजन रामखेलावन को घर ले आए, जहां उसने दम तोड़ दिया। रामखेलावन के महज जमीन 3 बीघे खेत है। जबकि 3 बीघे बलकट पर लेकर खेती करता था। बेटों ने बताया कि ठंड लगने से पिता की मौत हुई है।