पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Uttar pradesh
  • Banda
  • Memorandum Submitted To The District Magistrate For Solution, Social Worker PC Patel Said If The Problem Is Not Solved, Then Anna Cattle Will Do A Huge Mass Movement

बांदा में अन्ना प्रथा से परेशान किसान:समाधान के लिए जिलाधिकारी को सौंपा ज्ञापन, समाजसेवी पीसी पटेल ने कहा- अगर समस्या का हल नहीं निकला, तो विशाल जनांदोलन करेंगे

बांदा12 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
किसानों ने डीएम को सौंपा ज्ञापन। - Dainik Bhaskar
किसानों ने डीएम को सौंपा ज्ञापन।

बांदा में किसानों ने गौवंश की समस्या के समाधान को लेकर जिलाधिकारी को ज्ञापन दिया है। बुंदेलखंड में व्याप्त अन्ना प्रथा से बुन्देली किसान बर्बादी के मुहाने में खड़ा है। फसलों की रखवाली के दौरान रोज जहरीले कीड़ों के काटने से किसानों की मृत्यु हो रही है। आये दिन किसान आत्महत्या करने को मजबूर हो रहे हैं।

हक के लिए अंतिम सांस तक लड़ेगें किसान

किसानों का आरोप है कि सरकार बुंदेलखंड में अन्ना प्रथा के लिए कोई ठोस कदम नहीं उठा रही है। सरकार चित्रकूट मंडल में 59 करोड़ रुपए गौशाला के नाम पर खर्च करने का दावा कर रही है, लेकिन इसका परिणाम जमीनी स्तर पर नहीं दिख रहा है। समाजसेवी पीसी पटेल ने कहा कि अगर समस्या का हल एक सप्ताह में नहीं होता है, तो विशाल जनांदोलन करने के साथ ही क्षेत्र के अन्ना मवेशियों को लेकर तहसील में बंद करने को मजबूर होंगे। किसान अपने हक के लिए अंतिम सांस तक लड़ेंगे।

क्या है अन्ना प्रथा

यह प्रथा बुंदेलखंड की है। जब चैत्र मास में फसल कट जाती है और खेत खाली हो जाते हैं, तो उस समय जानवरों को खुला छोड़ दिया जाता है। इसके पीछे किसानों का खेती का ज्ञान काम करता है। खुले खेतों में घूमने और उसे चरने से खेतों की उर्वरा शक्ति बढ़ती है। लेकिन अभी ये प्रथा किसानों के लिए समस्या बनी हुई है।

खबरें और भी हैं...