मंदिरों में रातभर गूंजे माता के जयकारे:नवरात्र के दूसरे  दिन देवी मंदिरों में श्रद्धालुओं की उमड़ी भीड़

बांदा2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
मंदिरो में पूजा अर्चना करती महिलाएं - Dainik Bhaskar
मंदिरो में पूजा अर्चना करती महिलाएं

बांदा नवरात्र के दूसरे दिन देवी मंदिरों में श्रद्धालुओं की भीड़ उमड़ी। देवी मां के जयकारे के साथ जलाभिषेक और पूजा-अर्चना की गई। नौ दिन व्रत रखने वालों ने घरों में कलश स्थापना की। उधर, देवी पंडालों पर मां जगदंबा की प्रतिमाएं विराजी। शाम होते ही बिजली की भव्य सजावट के बीच पंडाल जगमगा उठे।

देवी मंदिरों में श्रद्धालुओं की भीड़ उमड़ी
सुबह से देवी मंदिरों में जलाभिषेक व पूजा-अर्चना करने वालों की भीड़ उमड़ने लगी। शहर के महेश्वरी देवी, काली देवी, सिंहवाहिनी, चौसठ जोगिनी, मरही माता, कालका देवी, महामाई समेत जगह-जगह मंदिरों में घंटों की गूंज के साथ मां जगदंबे के जयकारे लगते रहे।

देवी मंदिर में सुरक्षा व्यवस्था के लिए पुलिस व होमगार्ड जवान तैनात
महेश्वरी देवी व काली देवी मंदिर में सुरक्षा व्यवस्था के लिए पुलिस व होमगार्ड जवान तैनात रहे। पुरोहितों ने देवी पुराण व दुर्गा सप्तशती पाठ शुरू किया। मंदिरों के आसपास मेला सा नजारा रहा। वहीं घरों में नौ दिन व्रत रखने वाले श्रद्धालुओं ने पूजा-अर्चना के साथ कलश स्थापना की तिंदवारी के काली देवी मंदिर, संतोषी माता मंदिर सहित मुंगुस की सिंहवाहिनी मंदिर में भक्तों की भीड़ रही। गिरवां खत्री पहाड़ स्थित विंध्यवासिनी देवी परिसर में नौ दिवसीय मेला शुरू हो गया। पहले दिन दर्शन व पूजन को भक्तों का रेला उमड़ा।

जगदंबा देवी की प्रतिमाएं पंडालों में स्थापित हुई
श्रद्धालुओं ने घरों में जौ बोकर नौ दिन का व्रत शुरू किया। बाकल की जोगिनी माता मंदिर में भी श्रद्धालुओं की भीड़ रही। मेला में क्षेत्रीय श्रद्धालुओं के अलावा समीपवर्ती फतेहपुर व कौशांबी जिले से आए आस्थावानों ने पूजा-अर्चना की। खप्टिहाकलां पैलानी में मां जगदंबा देवी की प्रतिमाएं पंडालों में स्थापित हुई। भव्य झांकियां सजाई गई।

खबरें और भी हैं...