पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Uttar pradesh
  • Banda
  • Raised The Issue Of The Plight Of The Farmers Of Bundelkhand And Unemployment Of The Youth, Said This Movement Belongs To The Whole Country

बांदा में राकेश टिकैत ने सरकार पर साधा निशाना:बुंदेलखंड के किसानों की बदहाली व युवाओं की बेरोजगारी का उठाया मुद्दा, कहा- यह आंदोलन पूरे देश का है

बांदा9 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
बांदा में राकेश टिकैत ने की जनसभा। - Dainik Bhaskar
बांदा में राकेश टिकैत ने की जनसभा।

बांदा में किसान नेता राकेश टिकैत ने जन सभा की है। अपने भाषण में उन्होनें बुंदेलखंड के किसानों की बदहाली, युवाओं की बेरोजगारी और व्यापारियों की समस्या को उठाया। कहा कि उनकी लड़ाई पूरे देश के किसानों के लिए है। जिसे जारी रखा जाएगा। सरकार द्वारा किए जा रहे निजीकरण को रोकना होगा। इससे बेरोजगारी में इजाफा होगा।

संपर्क क्रांति एक्सप्रेस से पहुंचे बांदा
हमीरपुर के मौदहा कस्बे में राकेश टिकट की जनसभा हुई है। इससे पहले वह उत्तर प्रदेश संपर्क क्रांति एक्सप्रेस से बांदा पहुंचे। बांदा से सैकड़ों किसानों के साथ हमीरपुर गए। राकेश टिकैत ने कहा कि बुंदेलखंड का किसान आत्महत्या कर रहा है। किसान की हालत किसी से छिपी नहीं है। किसान संगठन की सरकार से जो मांग है। उसमें पूरे देश के किसानों का हित होगा। संसद में पारित किसान बिल के तीन बिंदुओं को हटाया जाए। एमएसपी रेट की गारंटी तय की जाए।

निजीकरण का उठाया मुद्दा
आगे कहा कि सरकार जिस तरह से तमाम सरकारी संस्थाओं का निजीकरण कर रही है उसको रोका जाए। निजीकरण करने से बेरोजगारी बढ़ेगी। बुंदेलखंड का युवा पहले से ही बेरोजगार है। यहां का युवा दिल्ली और सूरत जाकर कमाने को मजबूर है। यदि सरकार निजीकरण नहीं रोकेगी तो बेरोजगारी और ज्यादा बढ़ेगी। बड़ा व्यापारी किसान से सस्ते दामों पर माल लेकर एमएसपी पर बेचता है। यहां के किसान को लगातार ठगा जा रहा है।

कहा- आंदोलन पूरे देश के लिए है
उन्होंने कहा कि यह सरकार का नजरिया है कि वह आंदोलन को किस नजर से देखती है। उनका आंदोलन किसी प्रदेश के लिए नहीं है। बल्कि पूरे देश के किसानों के लिए है। और जब तक उनकी मांगे पूरी नहीं होती। वह इसी तरह देश के हर कोने में जाकर किसानों और युवाओं को जागरूक करते रहेंगे।

खबरें और भी हैं...