बांदा...गौशाला में छोड़ने के नाम पर गौवंशों को दफनाया:ग्रामीणों ने SDM और ईओ पर लगाया आरोप, भाजपा विधायक ने की कार्रवाई की मांग

बांदाएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
बांदा में गौशाला में छोड़ने के नाम पर गौवंशों को दफनाया। - Dainik Bhaskar
बांदा में गौशाला में छोड़ने के नाम पर गौवंशों को दफनाया।

बांदा जिले में मंगलवार को गौवंशों की हत्या और शव को गैरकानूनी तरीके से दफनाने का मामला सामने आया है। ग्रामीणों ने एसडीएम और नगर पंचायत के ईओ पर आरोप लगाया है। घटना को लेकर आक्रोशित ग्रामीणों ने नरैनी चौराहे पर जाम लगाकर प्रदर्शन किया। इस दौरान नरैनी विधायक राजकरण कबीर भी प्रदर्शन में पहुंचे और दोषियों के खिलाफ कार्रवाई की मांग की।

नरैनी चौराहे पर जाम लगाकर किया प्रदर्शन

मामला नरैनी थाना के एक कस्बे का है। बताया जाता है कि ट्रकों में गौवंशों को भरकर छोड़ने के लिए ले जाया जा रहा था। इस दौरान एसडीएम नरैनी और ईओ नगर पंचायत के साथ एआरटीओ भी मौजूद थे। अगले ही दिन कुछ समाजसेवी उस जगह पर पहुंचे, जहां गौवंशों को छोड़ा गया था। उस जगह पर गौवंशों के शव एक गड्ढे के अंदर दबे दिखाई दिए, जिसका वीडियो भी वायरल हुआ था। इस घटना के बाद ग्रामीणों में भारी आक्रोश देखने को मिला। ग्रामीणों ने नरैनी चौराहे पर जाम लगाकर प्रदर्शन किया। ग्रामीणों ने मांग की कि गौवंशों की हत्या करने वाले सभी अधिकारियों को बर्खास्त कर कड़ी सजा दी जानी चाहिए।

डीएम ने आरोपों को नकारा

इस मामले में जब बांदा के जिलाधिकारी अनुराग पटेल से बात की गई तो उन्होंने इस घटना को सिरे से नकार दिया। उन्होंने बताया कि गौवंशों को गौशाला में छोड़ा जा रहा है। ग्रामीणों के लगाए आरोप पर उन्होंने इस मामले की जांच सीडीओ से कराने की बात कही है। जिलाधिकारी ने जांच रिपोर्ट आने के बाद ही कार्रवाई की बात कही है। अब देखने वाली बात होगी कि एक तरफ जहां योगी सरकार गौवंशों को लेकर लगातार तरह-तरह की बातें करती नजर आती है, क्या गौवंशों की हत्या पर सजग होगी या नहीं।