सामने आई तिंदवारी पुलिस की लापरवाही:सप्ताह भर से लापता युवक को ढूंढ़ने में प्रशासन नाकामयाब, यमुना नदी के किनारे मिला शव, इकलौते बेटे की हालत देख फूट-फूटकर रोई मां

पैलानी, बांदा8 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
पैलानी में यमुना के किनारे शव मिलने के बाद लगी भीड़।

तिंदवारी थाना क्षेत्र के बेंदा गांव का 35 वर्षीय संतोष सविता पुत्र स्व. चेती सविता विगत सात जनवरी की शाम बेंदा घाट चौराहे से अपने घर के लिए निकला था। देर शाम तक संतोष के घर न पहुंचने पर परिजनों ने खोज- बीन शुरू की, लेकिन कहीं पता नहीं चला। अगले दिन 14 जनवरी की सुबह जंगल के पास स्थित मजरे के पास संतोष की साइकिल और उसके हैंडल में समोसा बंधे हुए पड़े मिले।

बताया गया है कि वो सात जनवरी को अपनी सैलून की दुकान बंद कर साइकिल से निकला था। घर न पहुंचने पर मां कल्ली देवी ने तिंदवारी पुलिस को लिखित सूचना दी। जानकारी पाते ही पुलिस ने आठ जनवरी को गुमशुदगी की रिपोर्ट दर्ज की और युवक की तलाश में जुट गई थी। इसके बाद 14 जनवरी को सुबह संतोष का शव गाजीपुर थाना क्षेत्र में यमुना नदी किनारे मिला।

माता-पिता का इकलौता था संतोष

मृतक संतोष अपने माता-पिता की इकलौती संतान था। संतोष के पिता चेती सविता कई वर्ष पहले मौत हो गई थी। संतोष सविता के दो बेटे और एक बेटी हैं, जिनका उसकी मौत के बाद से ही रो-रोकर बुरा हाल है। वहीं उसकी पत्नी गर्भवती भी है। मृतक के सात जनवरी को घर न पहुंचने पर इकलौते बेटे की तलाश में मां विमला देवी पुलिस को अपहरण और किसी अनहोनी की आशंका जताई थी। लेकिन तिंदवारी पुलिस गुमशुदगी दर्ज कर हाथ पर हाथ रखे बैठी रही। एक सप्ताह बाद 14 जनवरी को संतोष का शव मिलने पर मृतक के परिजन पुलिस पर हीला-हवाली करने व ढुलमुल रवैया अपनाने का आरोप लगाया। वहींं, मृतक की पत्नी कल्ली देवी एवं मां विमला देवी एवं बेंदा के ग्रामीणों ने पुलिस की ढुलमुल रवैया पर सवाल उठाए हैं।

खबरें और भी हैं...