बाराबंकी में शव उठा ले गई पुलिस:5 दिन पहले मारपीट के बाद हुई मौत, पत्नी बोली- पुलिस मामला दबा रही

बाराबंकीएक महीने पहले

बाराबंकी में रास्ते में हुए विवाद को लेकर 5 दिन पहले एक युवक की पिटाई कर दी गई थी। मंगलवार सुबह उस युवक ने जिला अस्पताल में इलाज के दौरान दम तोड़ दिया। युवक का शव जब गांव पहुंचा तो परिवार के लोगों ने आरोपियों के खिलाफ कार्रवाई की मांग की। उन्होंने कहा कि जब तक आरोपियों को सजा नहीं मिलेगी, तब तक वो लोग अंतिम संस्कार नहीं करेंगे।

शव घर पहुंचने के बाद परिवार के लोग बेसुध हो गए।
शव घर पहुंचने के बाद परिवार के लोग बेसुध हो गए।

पुलिस ने शव को मौके से उठा लिया

हंगामे के बाद पुलिस की टीम मौके पर पहुंची। उन्होंने परिवार को समझाने का प्रयास किया, लेकिन परिवार ने एक नहीं सुनी। जिसके बाद पुलिस की टीम ने शव को उठा लिया और जबरन अंतिम संस्कार के लिए ले जाने लगे। परिवार के लोगों ने मना किया तो पुलिस कर्मचारी नहीं रुके। परिवार के लोग भी पुलिस के पीछे गए। उन लोगों ने पुलिस से शव को वापस रखने के लिए बोला। गांव वालों के दबाव के बाद पुलिस शव को छोड़कर भाग गई।

पुलिस ने गांव के लोगों को समझाने की कोशिश की।
पुलिस ने गांव के लोगों को समझाने की कोशिश की।

शव को सड़क से हटा रही थी पुलिस

युवक की पत्नी का कहना है कि पुलिस चाहती है कि शव को जला दें, जिससे मामला दब जाए। पुलिस ने आरोपियों से पैसे ले लिए हैं। इसीलिए वो मामला दबाने में लगी हुई है। वहीं मामले में पुलिस का कहना है कि वो शव को सड़क से हटा कर घर की तरफ लेकर जा रहे थे। तभी किसी ने इसका वीडियो बना लिया। पूरा मामला बाराबंकी में थाना मोहम्मदपुर खाला क्षेत्र के नगर पंचायत बेलहरा के नेतपुरवा वार्ड का है।

पुलिस को गांव के लोगों ने मामले की जानकारी दी।
पुलिस को गांव के लोगों ने मामले की जानकारी दी।

परिवार को दी जाएगी आर्थिक सहायता

16 जून को गांव के ही उमराव, राहुल, रोहित, मोहित और पुतान ने मिलकर दिलीप की पिटाई कर दी थी। पिटाई में 35 वर्षीय दिलीप गंभीर रूप से घायल हो गया था। उसका उपचार लखनऊ के निजी चिकित्सालय में चल रहा था। जिसने मंगलवार को दम तोड़ दिया। मामले में बाराबंकी के अपर पुलिस अधीक्षक पूर्णेंदु सिंह ने बताया कि पुलिस पर लग रहे आरोप निराधार हैं। वीडियों में भी किसी प्रकार का विरोध होता नहीं दिख रहा। उन्होंने कहा कि पुलिस शव को रोड से हटाकर घर की तरफ ले जा रही थी। जिससे कोई अव्यवस्था न फैले। दोषियों को गिरफ्तार कर लिया गया है। साथ ही परिजनों को जो भी आर्थिक सहायता दी जाएगी। उसको दिलाने के लिये कागजी कार्रवाई कर ली गई है। मौके पर स्थिति पूरी तरह से शांत है।

खबरें और भी हैं...