बाराबंकी में दो साइबर ठग गिरफ्तार:सरकारी योजनाओं का लाभ दिलाने के बहाने करते थे ठगी, फिर विदेश भेजते थे रुपए

बाराबंकी7 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
पुलिस ने दो आरोपियों को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया है। - Dainik Bhaskar
पुलिस ने दो आरोपियों को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया है।

बाराबंकी में साइबर ठगों पर पुलिस ने शिकंजा कसा है। यहां साइबर सेल व नगर कोतवाली पुलिस टीम ने साइबर फ्राड करने वाले 25 हजार रुपये के इनामिया सहित 2 अभियुक्तों को गिरफ्तार किया है। गिरफ्तार अभियुक्त काफी समय से वांछित चल रहे थे। पुलिस ने इनके कब्जे से 20 हजार रुपये नकद, सिमकार्ड, पासबुक, एटीएम कार्ड, लेजर बुक, मॉडम, वाई-फाई राउटर, चार्जर और फोन बरामद किए है।

20 हजार रुपए बरामद

साइबर सेल व नगर कोतवाली पुलिस की संयुक्त टीम ने साइबर फ्राड करने वाले 25 हजार के इनानिया सहित दो अभियुक्तों को गिरफ्तार किया है। गिरफ्तार अभियुक्तों के पास से लोगों के साथ फ्राड किए गए 20 हजार रुपये बरामद हुए हैं। पुलिस ने इनके पास से सिमकार्ड, पासबुक, एटीएम कार्ड, लेजर बुक, मॉडम,वाई-फाई राउटर, चार्जर और फोन बरामद किए है।

बैंक पासबुक व एटीएम अपने पास रखते हैं

अपर पुलिस अधीक्षक उत्तरी पूर्णन्दु सिंह ने बताया कि गिरफ्तार अभियुक्तों का एक संगठित गिरोह है। जिसका सरगना शाहिद अनवर है। यह लोगों को सरकारी योजनाओं आदि का लाभ दिलाने के लिए उन्ही के नाम से फर्जी सिम खरीदकर लोगों का समूह बनाकर उनके विभिन्न बैंकों में खाते खुलवा देते हैं। तथा खाता खुलवाते समय खातों में वही फर्जी एक्टिवेट कराये गये सिम के मोबाइल नम्बर को रजिस्टर्ड कराते हैं । खाताधारकों के बैंक पासबुक व एटीएम अपने पास रखते हैं।

शाहिद अनवर है गैंग का सरगना

उसके बाद यह लोग आम लोगों को लॉटरी‚ इनाम‚ दुर्घटना बीमा‚ लोन आदि का प्रलोभन देने की कॉल करके उनके खाते से रूपये इन्हीं एक्टिवेट कराये गये खातों में रूपये ट्रान्जेक्शन कराकर नेट बैंकिंग आदि के माध्यम से बिना खाताधारक की जानकारी के रुपये निकाल लेते हैं। इस तरह इनके द्वारा बड़े पैमाने पर साइबर फ्राड किया जाता है। सरगना शाहिद अनवर द्वारा रूपयों को विदेश भेजने के भी साक्ष्य प्राप्त हुए है जिसके बारे में जांच की जा रही है।

खबरें और भी हैं...