बाराबंकी बस हादसे में परिवहन विभाग की पोल खुली:15 लोगों की मौत के जिम्मेदार डग्गामार बस पर 41 बार और ट्रक पर 17 बार हो चुका था चालान; 15 महीनों से बिना परमिट दौड़ रही थी बस; मुकदमा दर्ज

बाराबंकी18 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
परिवहन विभाग के अधिकारीयों के मुताबिक डग्गामार बस का 41 बार अब तक चालान हो चुका है। जबकि ट्रक का 17 बार​​​​​​​ चालान हो चुका है। - Dainik Bhaskar
परिवहन विभाग के अधिकारीयों के मुताबिक डग्गामार बस का 41 बार अब तक चालान हो चुका है। जबकि ट्रक का 17 बार​​​​​​​ चालान हो चुका है।

बाराबंकी में गुरुवार सुबह भीषण सड़क हादसा हो गया। इसमें 15 लोगों की मौत हो गई, जबकि 30 लोग घायल हो गए। कुछ लोग मामूली रूप से घायल हैं। अब इस मामले में बड़ा खुलासा हुआ है। बताया जा रहा है कि बस बिना परमिट के ही 15 महीनों से सड़कों पर दौड़ रही थी। जबकि बस का 41 बार चालान हो चुका है। वहीं इस मामले में मुकदमा भी दर्ज कराया गया है।

परिवहन विभाग ने दर्ज कराया मुकदमा

बस और ट्रक की टक्कर में 15 लोगों की जान चली गई। जिसके बाद अब परिवहन विभाग की नींद खुली है। परिवहन विभाग ने बस और ट्रक दोनों के ड्राइवरों के खिलाफ मुकदमा करवाया है। परिवहन विभाग ने धारा 279, 337, 338, 304 Aके तहत मुकदमा दर्ज कराया है। यह मुकदमा देवा थाने में दर्ज किया गया है।

डग्गामार बस का 41 बार, ट्रक का 17 बार हो चूका है चालान

परिवहन विभाग के अधिकारीयों के मुताबिक डग्गामार बस का 41 बार अब तक चालान हो चुका है। जबकि ट्रक का 17 बार चालान हो चुका है। बहरहाल, इस हादसे में आरटीओ और पुलिस प्रशासंत की पोल खोल कर रख दी है। हालांकि, यह कोई पहला मामला नहीं है जब इस तरह का हादसा बाराबंकी में हुआ हो। इससे पहले भी 28 जुलाई को भी एक हादसे में 18 लोगों की जान चली गई थी।

जिला अस्पताल में दिखा था मौत का मंजर

गुरुवार की सुबह जिला अस्पताल घायलों और मृतकों के परिजनों की चीखों से सिहर उठा। जहां-तहां 14 लोगों के शव पड़े हुए थे। किसी का हाथ टूटा था तो किसी का पैर। कुछ लाशें बिना सिर के भी थीं। खून से लथपथ शव किसी का भी दिल दहला दे। उधर, घटनास्थल पर भी भयानक मंजर दिखा। बस दो हिस्सों में बंटकर चकनाचूर हो गई थी। मौके पर किसी के चप्पल तो किसी का सामान बिखरा पड़ा मिला था।

खबरें और भी हैं...