रामसनेही घाट में वन विभाग ने बंद की कांबिंग:तेंदुए को पकड़ने के लिए 3 दिन से वन विभाग लगा रहा था पिंजरा, नहीं मिली कामयाबी

रामसनेही घाट9 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

बाराबंकी जनपद के रामसनेही घाट इलाके में तेंदुआ देखे जाने से दहशत का माहौल है। 3 दिन बीत जाने के बावजूद तेंदुए का कोई अता पता नही चल पाया।अब पिंजरों को खाली वापस लौटा लिया गया है।गावो में लोग भयभीत है।रामसनेही घाट इलाके के दरियाबाद में मिश्रपुरवा इटौरा गांव में केले के खेत में लोगो का कहना है की तेंदुआ को 3 दिन पहले देखा गया था।जिसके बाद वन विभाग की टीम मौके पर पहुंची और कांबिंग शुरू कर दी।

वन विभाग की टीम को भी मौके से तेंदुए के पग चिन्ह भी मिले थे।रामसनेही घाट के दरियाबाद में आस पास के गांव के लोगो को वन विभाग द्वारा लोगो को अलर्ट किया गया था।तेंदुए को पकड़ने के लिए गांव में पिंजड़े रखवाए गए है।वन विभाग की टीम लगातार तेंदुए को पकड़ने का प्रयास कर रही थी। आपको बता दें बाराबंकी जनपद के मोहम्मदपुर इलाके में तेंदुए के आने की दहशत थी ।उसके बाद वन विभाग की टीम उसे पकड़ने का प्रयास कर रही थी। और लगातार वन विभाग द्वारा तेंदुआ को पकड़ने को लेकर काम किया जा रहा था।

इसी बीच मोहम्मदपुर से 40 किलोमीटर दूर लगभग दरियाबाद इलाके में तेंदुआ देखे जाने की बात सामने आई थी।तेंदुआ को केले के खेत में देखा गया। इसके बाद ग्रामीणों ने इसकी सूचना वन विभाग की टीम को दी थी।वन विभाग की टीम गांव पहुंची जहां पर कांबिंग के दौरान तेंदुए के पैर के निशान पाए गए ।वन विभाग की टीम ने लोगों को आगाह किया था और पिंजरा लगाकर तेंदुआ को पकड़ने का प्रयास वन विभाग की टीम द्वारा जारी था।

फिलहाल आज तीसरे दिन वन विभाग के हाथ खाली थे।और दरियाबाद के भगवानपुर समेत अन्य गावो से जहा तेंदुए को पकड़ने के लिए पिजड़े रखे गए थे।हटा लिए गाय।इस मामले पर श्यामू फॉरेस्टर ने बताया की पिंजड़े हटा लिए गए है।आगे कही सूचना मिलती है तो फिर से विभाग द्वारा कांबिंग की जाएगी।

खबरें और भी हैं...