मीरगंज में गैस एजेंसी मालिक से 75.5 लाख की धोखाधड़ी:कस्बे के दो व्यापारियों ने बैंक मैनेजर के साथ मिलकर लोन की रकम की ट्रांसफर, एडीजी के आदेश पर मुकदमा दर्ज

मीरगंज10 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

मीरगंज की अभिनव गैस एजेंसी मालिक से साढ़े 75 लाख रुपये की धोखाधड़ी का मामला सामने आया है। गैस एजेंसी मालिक ने कस्बे के दो व्यापारियों और बैंक मैनेजर पर धोखाधड़ी का आरोप लगाया है। शनिवार को पीड़ित ने एडीजी जोन से इसकी शिकायत की। इसके बाद एडीजी ने मीरगंज पुलिस को मुकदमा दर्ज करने का आदेश दिए हैं।

व्यापार बढ़ाने के लिए थी रुपयों की जरूरत

मीरगंज में मोहल्ला मेवात के निवासी राजीव सिंह की मनकरा गांव में अभिनव भारत गैस सर्विस के नाम से एजेंसी है। व्यापार बढ़ाने के लिए उन्हें रुपयों की जरूरत थी। जिस पर उन्होंने मीरगंज इलाके में ही रहने वाले सत्यवीर सिंह और चरणजीत सिंह से मदद मांगी। राजीव के मुताबिक दोनो ने उन्हें उत्कर्ष स्मॉल फाइनेंस बैंक से लोन दिलवाने की बात कही। खेती की जमीन के कागजात और दो बैंक चेक देने के लिए कहा। राजीव का खाता अर्बन को ऑपरेटिव बैंक में था। जहां उन्होंने सत्यवीर सिंह और चरणजीत सिंह को दोनों चीजें दी।

दो बार में खाते में रकम की गई ट्रांसफर

पीड़ित ने बताया कि दस्तावेज जमा होने के बाद उनका लोन स्वीकृत हो गया और उनके खाते में 6 मई को 75.60013 लाख रुपये ट्रांसफर हो गए। अगले दिन सुबह उनके मोबाइल में रकम ट्रांसफर होने का मैसेज आया। दो बार में उनके खाते से 25.50 लाख और फिर 50 लाख रुपए दूसरे अकाउंट में ट्रांसफर किए गए। मैसेज देख राजीव सिंह ने बैंक पहुंचे। जहां उन्होंने स्टेटमेंट निकाला और बैंक मैनेजर से बात की। पता लगा कि रकम सत्यवीर सिंह और चरणजीत सिंह के खातों में ट्रांसफर हुई है।

एडीजी से की धोखाधड़ी की शिकायत
एडीजी से की धोखाधड़ी की शिकायत

लोन एप्रूवल के लिए दी गईं ब्लैंक चेक के जरिये की धोखाधड़ी

पीड़ित का आरोप है कि जब उन्होंने बैंक मैनेजर से पूछा कि इतनी बड़ी रकम उनसे बगैर पूछे कैसे ट्रांसफर कर दी। तो वह टालमटोली करने लगे। राजीव सिंह ने बताया कि लोन लेने से पहले जो दो ब्लैंक चेक बैंक में जमा किए थे। आरोपियों ने उन्हीं के जरिये रकम अपने खाते में ट्रांसफर करवाई। आरोप है कि पूरे मामले में अर्बन को ऑपरेटिव बैंक के मैनेजर व उत्कर्ष स्मॉल बैंक कर्मचारी भी शामिल है। शनिवार को उन्होंने एडीजी जोन आफिस पहुंच कर इसकी शिकायत की। जिसके बाद एडीजी ने मीरगंज थाना पुलिस को मुकदमा दर्ज करने के आदेश दिये।

खबरें और भी हैं...