नौकरी के लिए लड़की ने इस्लाम कबूल किया:शाहजहांपुर की रेणु दिल्ली एयरपोर्ट पर 24 हजार की जॉब कर रही थी, दुबई एयरपोर्ट पर 2.50 लाख की नौकरी के लिए बन गई आयशा

शाहजहांपुरएक वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
रेणु गंगवार से आयशा अल्वी बनी युवती ने खुद अपनी कहानी बताई है। - Dainik Bhaskar
रेणु गंगवार से आयशा अल्वी बनी युवती ने खुद अपनी कहानी बताई है।

शाहजहांपुर में दुबई में नौकरी के लिए एक लड़की हिन्दू से मुस्लिम बन गई है। इस बात का खुलासा भी उसने खुद किया। हालांकि, मामला चर्चा में आने के बाद से परिवार ने किसी से भी बात करना बंद कर दिया है। वहीं, पुलिस ने इस मामले से पल्ला झाड़ लिया है। पुलिस का कहना है कि लड़की ने अपनी मर्जी से धर्म परिवर्तन किया है। इस मामले में किसी भी तरह की शिकायत नहीं आई है।

युवती ने खुद किया हिन्दू से मुस्लिम बनने का खुलासा
शाहजहांपुर के तिलहर की 29 वर्षीय रेणु ने अपने बारे में चौंकाने वाला खुलासा किया है। रेणु के अनुसार उसने इस्लाम कबूल कर लिया है। अब वह रेणु गंगवार से आयशा अल्वी बन चुकी है। इसके पीछे की कहानी भी रेणु बताती है। उन्होंने बताया कि मैंने बड़ी मेहनत से पढ़ाई की। फिर एविएशन के क्षेत्र में पहुंची। पढ़ाई के बाद मुझे दिल्ली एयरपोर्ट पर नौकरी मिली। लेकिन मेरी सैलरी से मैं संतुष्ट नहीं हूं। मुझे कुल 24 हजार रुपए ही मिलते हैं। जोकि मेरे लिए नाकाफी है।

ढाई लाख की नौकरी के लिए बनी हिन्दू से मुसलमान
रेणु ने बताया जीवन में तरक्की सभी चाहते हैं। जब मैंने पता किया तो मुझे बताया गया कि एविएशन इंडस्ट्री में सबसे अच्छी सैलरी दुबई एयरपोर्ट पर मिलती है। मैं जो नौकरी कर रही हूं। उस पोस्ट के लिए दुबई में ढाई लाख रुपए मिलते हैं। इन सबके बीच एक अडंगा था कि वहां मुस्लिम लड़कियों को ही नौकरी दी जाती है। इस बारे में जब बहुत सोचा तो मैंने पाया कि तरक्की करनी है तो धर्म परिवर्तन करना ही होगा।

परिवार की मर्जी के खिलाफ किया धर्म परिवर्तन
इन सबके बीच रेणु गंगवार का मन दुबई में लगा हुआ था। उसने जब धर्म परिवर्तन की बात परिवार में की तो सभी ने एक सिरे से विरोध कर दिया। जिसके बाद वह शांत हो गई। रेणु बताती है कि मैंने सोचा कुछ दिनों के लिए परिवार की बुराई लेना सही है जबकि इस एक फैसले से जिंदगी बन जाएगी। ऐसे में रेणु ने बाद में धर्मपरिवर्तन कर लिया और आयशा बन गई।

इंटरनेट से खोजा मौलाना को

रेणु ने बताया कि मैंने इंटरनेट से धर्मपरिवर्तन के लिए खोजबीन शुरू की। वहीं से मुझे एक मौलाना का नंबर मिला। इस्लाम का सर्टिफिकेट के लिए मुझसे फोन पर बताया गया कि मार्कशीट और आधार कार्ड की जरूरत होगी। दिल्ली में ही मैं यह सब डॉक्यूमेंट लेकर मौलाना के पास पहुंची। जहां मेरा धर्म परिवर्तन किया गया। मेरे ऊपर किसी तरह का कोई दबाव नहीं था। मैंने अपनी मर्जी से धर्म परिवर्तन किया है। मुझे किसी तरह का कोई लालच नहीं दिया गया है।

पुलिस ने कहा कोई शिकायत नहीं आई

शाहजहांपुर एसपी एस आनन्द ने बताया कि जिस युवती ने धर्म परिवर्तन किया है। उसकी अपनी मर्जी थी। अपनी मर्जी से उसने अपना धर्म बदला है। इसमें पुलिस के पास किसी तरह की कोई शिकायत नहीं आई है।

खबरें और भी हैं...