बरेली में जहरीली गैस से 3 मजदूरों की मौत:BLएग्रो कंपनी में टैंक साफ करने उतरे थे; ADM बोले- लापरवाही पर होगी सख्त कार्रवाई

बरेली2 महीने पहले

बरेली में बीएल एग्रो खाद्य तेल फैक्ट्री में मंगलवार को बड़ा हादसा हो गया। कंपनी के 7 मजदूर टैंक की सफाई के लिए अंदर उतरे। अंदर की जहरीली गैस से सभी बेहोश हो गए। कंपनी के अधिकारियों ने सभी को अस्पताल भेजा। जहां इलाज के दौरान 3 की मौत हो गई, जबकि 4 मजदूरों की हालत खतरे से बाहर है।

लापरवाही से हुआ हादसा

मामला सीबीगंज के जौहरपुर गांव का है। मृतकों की पहचान विजय, नीरज और यासीन के रूप में हुई है। हादसे की जानकारी पर ADM सिटी राम दुलारे पांडेय मौके पर पहुंचे। उन्होंने कहा कि DM से बात कर इस मामले की मजिस्ट्रेट जांच कराई जाएगी। जांच के दौरान सभी सुरक्षा मानकों का ऑडिट भी होगा। लापरवाही मिलने पर फैक्ट्री मैनेजमेंट के खिलाफ भी सख्त कार्रवाई की जाएगी। ADM सिटी ने कर्मचारियों की नियुक्ति के संबंध में जांच के निर्देश जारी कर दिए हैं।

घटना की जानकारी के बाद बीएल एग्रो पहुंचे अधिकारी। कहा- लापरवाही मिलने पर फैक्ट्री मैनेजमेंट के खिलाफ भी सख्त कार्रवाई की जाएगी।
घटना की जानकारी के बाद बीएल एग्रो पहुंचे अधिकारी। कहा- लापरवाही मिलने पर फैक्ट्री मैनेजमेंट के खिलाफ भी सख्त कार्रवाई की जाएगी।

फैक्ट्री, पोस्टमार्टम हाउस और अस्पताल में पुलिस फोर्स तैनात

इस पूरे घटनाक्रम पर दोपहर तक कोई अधिकारी बोलने को तैयार नहीं था। दोपहर में SSP रोहित सिंह सजवाण ने कहा कि मामले की जांच चल रही है। घटना में बेहोश 3 मजदूरों की मौत हो गई है। पूरे मामले की गंभीरता से जांच के निर्देश दिए गए हैं।

पुलिस ने तीनों शवों को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है। किसी तरह के हंगामे को काबू में करने के लिए फैक्ट्री, पोस्टमार्टम हाउस और अस्पताल में पुलिस फोर्स तैनात किया गया है। अस्पताल में भर्ती मजदूरों का अच्छी तरह से इलाज करने के निर्देश दिए गए हैं।

3 दिन से आ रही थी गैस की बदबू

वहीं, फैक्ट्री के मैनेजर प्रेम बाबू शर्मा का कहना है कि हादसे की जांच कंपनी की टीमें भी कर रही हैं। सभी मजदूरों के लिए इंश्योरेंस पॉलिसी है। मृतकों के परिजनों को मुआवजा दिया जाएगा। उधर, दोपहर में श्रम विभाग के अधिकारी भी फैक्ट्री में जांच करने पहुंचे।

कंपनी के मैनेजर ने बताया कि 3 दिन पहले ही सफाई होनी थी, लेकिन टैंक से गैस की महक आ रही थी। इसलिए उस दौरान मजदूरों को सफाई के लिए मना कर दिया गया था। कहा गया था कि जब तक गैस पूरी तरह खत्म न हो जाए, कोई अंदर नहीं उतरेगा। इसके बावजूद आज किसी सुपरवाइजर की लापरवाही से यह घटना हो गई। कंपनी इसकी जांच कर रही है। दोषी सुपरवाइजर के खिलाफ भी कार्रवाई की जाएगी।

खबरें और भी हैं...