बरेली...रिटायर्ड कर्मचारी की बेटी की संदिग्ध हालत में मौत:मानसिक रुप से थी बीमार, घर के अंदर आग लगाकर जिंदा जली

बरेली7 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

बरेली के बिहारीपुर में रेलवे से रिटायर्ड कर्मचारी की 25 वर्षीय मानसिक मंदित बेटी ने घर के अंदर खुद को जिंदा जलाकर खुदकुशी कर ली। जानकारी पर कोतवाली पुलिस पहुंची तो परिजनों ने शव का पोस्टमार्टम कराने से ही मना कर दिया। मामला गंभीर होने के चलते पुलिस ने समझाया ताे उसके बाद परिजनों ने शव का पोस्टमार्टम कराने दिया। इस दौरान घर से कोई भी सुसाइड लेटर बरामद नहीं हुआ है।

परिजन डिप्रेशन का नहीं बता पाए कारण

कोतवाली बिहारीपुर मेमरान निवासी रईस अहमद रेलवे से पायलट पद से रिटायर है। उनकी 25 वर्षीय बेटी नगमा इंटरमीडिएट की पढ़ाई पूरी कर चुकी थी। परिजनों ने बताया कि एक साल से उनका मानसिक संतुलन खराब था। शुक्रवार को परिजन नीचे थे और दूसरी मंजिल पर बेटी ने खुद पर मिट्‌टी का तेल डालकर आग लगा ली। जिससे घर के अंदर ही उसकी जिंदा जलकर मौत हो गई। वहीं युवती के पिता का कहना है कि घटन के समय वह नमाज पढ़ने गए थे। उनकी पत्नी घर पर नमाज अदा कर रही थी। बहू अपने कमरे में नहा रही थी। घटना की सूचना पर पुलिस पहुंची तो परिवार ने शव का पोस्टमार्टम कराने से मना कर दिया। हालांकि इतनी बड़ी घटना हाने के बाद भी युवती ने शोर न मचाया हो और घर में मौजूद परिजनों को पता तक नहीं चला, यह पुलिस को हजम नहीं हुआ। वहीं परिजन डिप्रेशन का कारण नहीं बता सके। जिसके बाद पुलिस ने शव का पोस्टमार्टम कराया।

झाड़फूक के चक्कर में गई जान

मृतका के पिता का कहना है कि उनकी बेटी का ऊपरी चक्कर था। इस लिए शाहदाना वाली दरगाह में उसका एक साल से इलाज चल रहा था। दरगाह मेें इलाज के बाद भी उसकी हालत में सुधार नहीं हुआ। उन्होंने पुलिस को बताया कि हालत में सुधार न होने के कारण भी उसका रिश्ता तय कर दिया था। बस यहीं से पुलिस को यह बात हजम नहीं हो रही थी और शव का पोस्टमार्टम कराया। चौकी इंचार्ज सनी चौधरी ने बताया कि शव का पोस्टमार्टम कराया जा रहा है परिजन मानसिक मंदित बता रहे हैं।

खबरें और भी हैं...