कैबिनेट मंत्री को काले झंडे दिखाने पर 19 पर एफआईआर:पीलीभीत में किसानों ने स्वामी प्रसाद मौर्या का काफिला रोका, जमकर हंगामा किया; झंडे छीनकर हिरासत में लिया, एसआई ने मुकदमा दर्ज कराया

पीलीभीत4 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
हंगामे कर रहे किसानों को कैबिनेट मंत्री ने समझाया। - Dainik Bhaskar
हंगामे कर रहे किसानों को कैबिनेट मंत्री ने समझाया।

पीलीभीत में कैबिनेट मंत्री स्वामी प्रसाद मौर्या को काले झंडे दिखाने पर 19 लोगों पर एफआईआर दर्ज की गई है। किसानों ने मंत्री के काफिले को रोककर जमकर हंगामा काटा और काले झंडे दिखाकर प्रदर्शन किया। मजबूरन मंत्री को गाड़ी से उतरना पड़ा। हंगामे कर रहे किसानों को उन्होंने समझाया और मांगें पूरी होने का आश्वासन दिया।

इसके बाद पुलिस ने किसानों के हाथों से झंडे छीन लिए और उन्हें हिरासत में ले लिया। पूरनपुर थाने में तैनात एसआई की तहरीर 9 नामजद और 10 अज्ञात किसानों के खिलाफ मामला दर्ज किया गया है।

भाजपा सरकार पर किसानों का शोषण करने का आरोप लगाया

बुधवार को कैबिनेट मंत्री स्वामी प्रसाद मौर्या पीलीभीत के दौरे पर आए थे। कैबिनेट मंत्री का काफिला पूरनपुर थाना NH730 से गुजर रहा था तभी खमरिया पट्टी चौराहे पर किसानों ने उन्हें काले झंडे दिखाकर प्रदर्शन किया। मजबूरन कैबिनेट मंत्री स्वामी प्रसाद मौर्य को किसानों से बातचीत करने के लिए गाड़ी से नीचे उतरना पड़ा। किसान यूनियन के कार्यकर्ताओं ने भाजपा सरकार पर किसानों का शोषण करने का आरोप लगाया। वहीं वीआईपी ड्यूटी पर तैनात कस्बा इंचार्ज बालक राम ने किसानों के हाथों से झंडे छीन लिए और उन्हें हिरासत में ले लिया। कस्बा इंचार्ज की तहरीर पर 9 नामजद और 10 अज्ञात किसानों के खिलाफ एफआईआर दर्ज की गई। यूनियन के खिलाफ कोरोना प्रोटोकॉल का उल्लंघन और मंत्री की गाड़ी रोकने का मामला बुधवार देर रात दर्ज किया गया है। वहीं पूरनपुर थाना अध्यक्ष हरीश वर्धन सिंह ने बताया है कि मामले की जांच की जा रही है।

भाजपा सरकार पर किसानों का शोषण करने का आरोप लगाया।
भाजपा सरकार पर किसानों का शोषण करने का आरोप लगाया।

किसान का फटा कुर्ता, पुलिस को धमकाया

कैबिनेट मंत्री स्वामी प्रसाद मौर्य की गाड़ी के आगे प्रदर्शन कर किसानों को पुलिस ने जब रोकने का प्रयास किया तो एक किसान का कुर्ता फट गया। जिसके बाद किसान ने पुलिस को नकारते हुए कहा कि अब क्षेत्र में किसी बहन बेटी के साथ बलात्कार की घटना होगी तो वह पुलिस की वर्दी फाड़ने का काम करेंगे।

संसद के अंदर उठाई जा रही किसानों की आवाज

किसानों को लेकर संसद के अंदर लगातार आवाज उठाई जा रही है। राज्यसभा में गृह मंत्रालय की तरफ से जानकारी दी गई है कि 2020 से जुलाई 2021 तक दिल्ली पुलिस ने आंदोलन से जुड़े 183 किसानों को गिरफ्तार किया है और ये सभी जमानत पर हैं। वहीं गृहमंत्री राज्यमंत्री नित्यानंद राय ने सदन को जानकारी दी है कि दिल्ली पुलिस के अनुसार, राजद्रोह कानून या UPPA, आंदोलन कर रहे किसानों के विरुद्ध दर्ज किसी भी मामले में लागू नहीं किया गया है।

किसानों को पुलिस ने जब रोकने का प्रयास किया तो एक किसान का कुर्ता फट गया।
किसानों को पुलिस ने जब रोकने का प्रयास किया तो एक किसान का कुर्ता फट गया।
कस्बा इंचार्ज की तहरीर पर 9 नामजद और 10 अज्ञात किसानों के खिलाफ एफआईआर दर्ज की गई।
कस्बा इंचार्ज की तहरीर पर 9 नामजद और 10 अज्ञात किसानों के खिलाफ एफआईआर दर्ज की गई।
खबरें और भी हैं...