जीका वायरस अलर्ट:केरल से बरेली आने वालों पर स्वास्थ्य विभाग की नजर, केरल से आने वालों का होगा जीका वायरस का टेस्ट

बरेली3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

स्वास्थ्य विभाग कोरोना संक्रमण की तीसरी लहर से बचाव के लिए जुटा हुआ है। मगर इसी बीच जीका वायरस ने अपनी दस्तक दे दी है। केरल में जीका वायरस के मरीज मिलने के बाद अलर्ट जारी कर दिया गया है। बरेली में केरल से आने वाले लोगों पर निगरानी रखी जा रही है। जो भी लोग केरल से आएंगे उनका जीका वायरस का टेस्ट कराया जाएगा। सीएमओ ने सर्विलांस टीम को सतर्क रहने के निर्देश दिए हैं।

केरल में मिले हैं जीका वायरस के 19 केस

दरअसल, केरल में जीका वायरस के 19 केस मिले हैं। जिसके बाद से केरल के पड़ोसी कर्नाटक और तमिलनाडु के साथ मध्य प्रदेश में भी अलर्ट जारी कर दिया गया। इसी के साथ बरेली में भी अलर्ट जारी है। सीएमओ डॉ. एसके गर्ग का कहना है की बरेली में केरल से जो भी लोग आएंगे उन पर कड़ी निगरानी रखी जाएगी। सर्विलांस टीम को कहा गया है कि घर-घर जाकर लोगों को यह बताएं कि यदि उनके घर में कोई केरल से आता है और उसमें बुखार, सिर दर्द, चकत्ते पड़ना, जोड़ों में दर्द, मांसपेशियों में दर्द, आंखों का लाल होना, जैसे कोई भी लक्षण दिखाई दे रहे है। तो वह तुरंत जिला अस्पताल आकर जीका वायरस की जांच कराएं।

कैसे फैलता है जीका वायरस

स्वास्थ्य विभाग के अनुसार जीका वायरस संक्रमण एक मच्छर जनित वायरल संक्रमण है। यह मच्छरों में ऐडीज मच्छर के काटने से फैलता है। यह मच्छर आमतौर पर दिन में काटते हैं। एक बार जब कोई व्यक्ति मच्छर के काटने से संक्रमित हो जाता है। तो यह जीका वायरस कई दिनों तक उसके खून में रहता है। इसी बीच यदि कोई दूसरा मच्छर भी संक्रमित व्यक्ति का खून चूसने के बाद किसी अन्य व्यक्ति को भी काटता है तो उसमें भी वायरस फैल जाता है। इसी के साथ संक्रमित व्यक्ति का किसी दूसरे व्यक्ति को खून चढ़ाने से भी जिका वायरस फैल जाता है। इतना ही नहीं यौन संबंधों से भी जिका वायरस फैलता है।

जीका वायरस से कैसे बचें

डॉक्टर्स की मानें तो जीका वायरस से बचने के लिए सबसे पहले मच्छरों से बचना होगा। मच्छरों से बचने के लिए फुल आस्तीन की कपड़े पहने। घर या उसके आसपास पानी यह गंदगी इक्टठा ना होने दें। गर्भवती महिलाओं और नवजात को दूध पिलाने वाली महिलाओं के लिए सुरक्षित मॉस्किटो रेपेलेंट का इस्तेमाल करें। छोटे बच्चों को मच्छरदानी में सुलाएं। जहां तक हो सके अपने आस-पास गंदगी न होने दें। सबसे मुख्य मच्छरों से बचाव अवश्य रखें।

खबरें और भी हैं...