पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

कार चुराने का तरीका देख बरेली पुलिस हैरान:लॉक को मशीन से एक्स-रे की तरह स्कैन करते, फिर डुप्लीकेट चाबी बनवाकर अगले दिन ले उड़ते थे कार

बरेली9 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
दो कार चोर पुलिस की गिरफ्त में हैं। बाकी की तलाश की जा रही है। चोरी का यह तरीका देख पुलिस भी हैरान है। - Dainik Bhaskar
दो कार चोर पुलिस की गिरफ्त में हैं। बाकी की तलाश की जा रही है। चोरी का यह तरीका देख पुलिस भी हैरान है।

उत्तर प्रदेश के बरेली में फरीदपुर पुलिस ने कार चुराने वाले चार हाईटेक चोरों को पकड़ा है। यह चोर चाइनीज मशीन की मदद से चार पहिया गाड़ियां चुराया करते थे। इनके पास से चोरी की दो कार भी बरामद की गई है। चोरी की गाड़ियां दिल्ली में बेचा जाता था। इनके गिरोह में अलीगढ़ और दिल्ली के लोग शामिल हैं।

दरअसल, पुलिस को लगातार कार चोरी होने की सूचना मिल रही थी। कई दिनों बाद पुलिस ने मुखबिर की सूचना पर सर्विलांस के माध्यम से चोरों की तलाश शुरू की। जिसमें शहर के ग्रीन पार्क इलाके में रहने वाले सुरजीत सिंह, बदायूं के उझानी के प्रवेश वर्मा, अलीगढ़ के शेरू और दिल्ली के हेमंत की लोकेशन घटनास्थलों पर मिली। पुलिस ने बलवंत और प्रवेश को बरेली के भुता रोड से गिरफ्तार कर लिया। लेकिन अलीगढ़ के शेरू और दिल्ली के हेमंत फरार हैं। पुलिस उनकी तलाश में जुटी हुई है।

ग्रीन पार्क में रहने वाले सुरजीत सिंह की पीलीभीत रोड स्थिति कार बाजार में चाबियां बनाने की दुकान है। वह सभी गाड़ियों की चाबियां बड़े ही आसानी से बना देता है। पुलिस ने इनके पास से दो कार ऐसी बरामद की हैं, जिनसे ये चलते थे। जबकि एक चोरी की कार बरामद की है। इसके अलावा दो कोडिंग मशीन, कार के शीशा तोड़ने के औजार आदि सामान बरामद किया गया है।

कैसे करते थे चोरी, आसान भाषा में समझिए
पुलिस के मुताबिक इन चोरों के पास चाइनीज कोडिंग मशीन थी। यह मशीन ठीक उसी तरह से काम करती है, जिस तरह से एक एक्स-रे और अल्ट्रासाउंड मशीन काम करती है। यह लोग जिस कार के लॉक पर यह मशीन लगाते थे। उसकी पूरी मैकेनिजम मशीन में डिस्प्ले (दिख) हो जाती थी। ठीक उसी तरह से जिस तरह से अल्ट्रासाउंड करने पर सभी चीजें दिखती हैं। इसके बाद यह चोर उस मैकेनिजम को मशीन में सेव कर लेते थे। बलवंत सिंह से उसी आधार पर चाबी बनवाकर कार का लॉक खोलकर उसे चुरा लेता था।

यह मशीन केवल 2016-2017 मॉडल तक गाड़ियों पर कारगर
पुलिस के मुताबिक यह चाइनीज मशीन केवल 2016-2017 तक के मॉडल पर ही कारगर थी। इसके ऊपर के मॉडल पर यह मशीन काम नहीं करती थी। जिसकी वजह से अभी तक चोरी हुई सभी गाड़ियों में से 2017 मॉडल तक की ही गाड़ियां हैं।

फरार चोरों पर इनाम घोषित
एसएसपी रोहित सिंह सजवाण ने बताया कि दो चोर जो फरार हैं, वह गाड़ियों को बेचने का काम किया करते थे। अधिकांश गाड़ियों को दिल्ली में बेचा जाता था। इसके लिए वह कागज कैसे तैयार करते थे? इसकी जानकारी जुटाई जा रही है। पुलिस का मानना है कि यह चोरी की गाड़ियों के कागजात भी फर्जी तरीके से तैयार करते होंगे।

खबरें और भी हैं...