पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Uttar pradesh
  • Bareilly
  • If There Is No Rain For Two Weeks, The Farmer Can Bear The Loss Of Two To Three Thousand Rupees Per Hectare, Irrigation Will Have To Be Done Even After The Rising Prices Of Diesel.

किसान की जेब पर डीजल की मार:दो हफ्ते बारिश नहीं हुई तो किसान झेल सकता है दो से तीन हजार रुपये प्रति हेक्टेयर का नुकसान, डीजल के बढ़ते दामों के बाद भी करनी होगी सिंचाई

2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

उत्तर प्रदेश के बरेली में यदि जुलाई के अखिरी सप्ताह तक बारिश नहीं हुई तो किसानों को 2 हजार से तीन हजार प्रति हेक्टेयर तक का नुकसान उठाना पड़ सकता है। वजह होगी बारिश नहीं होने से मंहगे डीजल से सिंचाई करना। इतना ही नहीं फसल के लेट होने की वजह से उपज पर भी फर्क पड़ सकता है। अच्छी फसल नहीं होने से आगामी दिनों में व्यापार जगत पर भी प्रभाव पड़ेगा। बरेली में अभी तक जुलाई के महीनें में केवल 20.2 एमएम ही बारिश हुई है। हालांकि मौसम विभाग की तरफ से बारिश के लिए अलर्ट किया जा रहा है।

जुलाई के माह में अमूमन होती है 400 एमएम तक बारिश

बरेली में मानसून आमतौर पर 25 जून से 30 जून के बीच में आता है। इस बार 17 जून को ही मानसून आ गया। जून में प्री मानसून और मानसून मिलाकर 195.1 मिमी बारिश हुई। हालांकि 20 जून के बाद तो लगभग सूखा ही छा गया। जुलाई में अभी तक सिर्फ 20.2 मिमी बारिश ही हुई है। इसमें तीन जुलाई की 16.8 मिमी बारिश हुई थी। जबकि बरेली में जुलाई की औसत बारिश 400 मिमी होती है। इस तरह से लगभग आधी जुलाई बीत जाने तक अभी तक 150 से 200 मिमी तक बारिश हो जानी चाहिए थी। जबकि यहां अभी भी लोगों को अच्छी बारिश का इंतजार है।

एक हैक्टयेर में डीजल से सिंचाई पर आता है करीब 3 हजार रुपये खर्चा

जिला कृषि अधिकारी की माने तो यदि कोई किसान डीजल से सिंचाई करता है तो उसका खर्चा दो से तीन हजार रुपये प्रति हैक्टेयर आता है। यदि डीजल के दाम और बढ़े तो यह खर्चा भी बढ़ सकता है। इसलिए यदि बारिश नहीं हुई तो किसान के लिए काफी मुसीबतें झेलनी होगी। उसकी जेब पर अच्छा खासी मार पड़ सकती है।

इन दिनों धान की रोपाई में है किसान

किसान अब धान की फसल की रोपाई के लिए बारिश का इंतजार कर रहा है। यह इंतजार जुलाई के आखिरी सप्ताह तक किया जाएगा। यदि तब भी बारिश नहीं हुई तो इस बार धान की फसल लेट होने के आसार है। जिसकी वजह से उसकी उपज पर भी खासा असर पड़ेगा। कृषि अधिकारी का कहना है कि धान की रोपाई जितनी लेट होगी फसल की उपज पर उतना ही असर पड़ेगा।

जुलाई में बीते दिनों में यह रहे डीजल के दाम

13 जुलाई 90.19

12 जुलाई 90.19

11 जुलाई 90.36

10 जुलाई 90.36

09 जुलाई 90.1

08 जुलाई 90.1

07 जुलाई 90.0

06 जुलाई 89.83

05 जुलाई 89.83

04 जुलाई 89.83

03 जुलाई 89.67

इस बार सूखे के नहीं है आसार, हो सकती है बारिश

जब इस बारे में जिला कृषि अधिकारी धीरेंद्र सिंह से बात की गई तो उन्होंने बताया कि इस बार सूखे के आसार तो नहीं है। क्योंकि मौसम विभाग के अनुसार अगले कुछ ही दिनों बारिश हो सकती है। हां, अगर नहीं हुई तो किसान के लिए मुसीबत की बात होगी। उसे डीजल से ही सिंचाई के लिए मजबूर होना होगा।

खबरें और भी हैं...