चार और जिलों में भाजपा जिला पंचायत अध्यक्ष प्रत्याशी निर्विरोध:सपा प्रत्याशियों ने आखिरी वक्त पर नाम वापस लिए, दो भाजपा में शामिल हो गए, एक का पर्चा खारिज

लखनऊएक वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
  • अब तक BJP के 21 जिला पंचायत अध्यक्ष प्रत्याशी निर्विरोध चुने गए हैं, एक सपा का प्रत्याशी जीता है
  • यूपी में जिला पंचायत अध्यक्ष चुनाव में अब 53 सीटों पर 3 जुलाई को वोटिंग होगी

उत्तर प्रदेश की 4 और जिला पंचायतों में भाजपा प्रत्याशी निर्विरोध चुने गए हैं। यहां सपा प्रत्याशियों ने आखिरी दिन अपने नाम वापस ले लिए। ये जिले पीलीभीत, शाहजहांपुर, अमरोहा और बहराइच हैं। पीलीभीत और शाहजहांपुर में तो अंतिम समय में सपा प्रत्याशी ने पार्टी बदलकर भाजपा जॉइन कर ली। जबकि बाकी 2 जिलों में सपा प्रत्याशी ने अपना नामांकन वापस ले लिया है। इस तरह भाजपा के अब तक 21 जिला पंचायत अध्यक्ष प्रत्याशियों के सामने विपक्ष टिक नहीं सका। एक सीट सपा के खाते में गई है। यूपी जिला पंचायत अध्यक्ष चुनाव में अब 53 सीटों पर 3 जुलाई को वोट डाले जाएंगे। वहीं, भाजपा दावा कर चुकी है कि 25 जिलों में वह निर्विरोध जीतेगी।

पीलीभीत: भाजपा नेताओं के साथ पहुंच कर नामांकन वापस लिया

यहां समाजवादी पार्टी कैंडिडेट स्वामी प्रवक्ता नंद ने भाजपा जॉइन कर ली। उन्होंने भाजपा नेताओं के साथ जाकर कलक्ट्रेट से अपना नामांकन भी वापस ले लिया है। अब भाजपा प्रत्याशी डॉ. दलजीत कौर का निर्विरोध जिला पंचायत अध्यक्ष बनना लगभग तय है। भाजपा जिलाध्यक्ष संजय प्रताप सिंह ने बताया कि स्वामी प्रवक्ता नंद भाजपा परिवार का हिस्सा हैं। रणनीति के तहत उन्हें सपा से जिला पंचायत अध्यक्ष कैंडिडेट बनने के लिए सपा जॉइन कराई गई थी। चर्चा है कि स्वामी ने भाजपा से जिला पंचायत अध्यक्ष की कुर्सी छोड़ने के एवज में बरखेड़ा विधानसभा टिकट मांगा है।

स्वामी प्रवक्ता नंद ने भाजपा नेताओं के साथ जाकर कलक्ट्रेट से अपना नामांकन भी वापस ले लिया है।
स्वामी प्रवक्ता नंद ने भाजपा नेताओं के साथ जाकर कलक्ट्रेट से अपना नामांकन भी वापस ले लिया है।

शाहजहांपुर: 10 साल से ज्यादा समय से थी सपा में, भाजपा ने तोड़ लिया

शाहजहांपुर में भी समाजवादी पार्टी को झटका लगा है। यहां बीते 10 साल से सपा की कार्यकर्ता और जिला पंचायत अध्यक्ष की कैंडिडेट बीनू सिंह ने भाजपा जॉइन कर ली। जिले के सपा नेताओं को भनक तक न लगी। बीनू ने मंत्री सुरेश खन्ना की मौजूदगी में भाजपा जॉइन की साथ ही कलक्ट्रेट से अपना नामांकन भी वापस ले लिया है। अब भाजपा प्रत्याशी ममता यादव का निर्विरोध चुना जाना तय है।

बीनू ने मंत्री सुरेश खन्ना की मौजूदगी में भाजपा जॉइन की साथ ही कलक्ट्रेट से अपना नामांकन भी वापस ले लिया है।
बीनू ने मंत्री सुरेश खन्ना की मौजूदगी में भाजपा जॉइन की साथ ही कलक्ट्रेट से अपना नामांकन भी वापस ले लिया है।

अमरोहा: सपा प्रत्याशी का पर्चा ही खारिज हो गया

अमरोहा के पूर्व भाजपा सांसद कंवर सिंह तंवर के बेटे और भाजपा प्रत्याशी ललित तंवर निर्विरोध जिला पंचायत अध्यक्ष चुन लिए गए हैं। उन्हें मंगलवार को जिलाधिकारी ने प्रमाण पत्र दे दिया है। इस सीट पर सपा की ओर से पूर्व कैबिनेट मंत्री महबूब अली की पत्नी सकीना ने नामांकन पत्र दाखिल किया था। जिसे खामियां बताकर खारिज कर दिया गया था। सकीना बेगम की प्रस्तावक वार्ड 23 की जिला पंचायत सदस्य कमर जहां थीं। कमर जहां ने जिला पंचायत सदस्य के चुनाव में अपना पर्चा दाखिल करते समय नामांकन पत्र पर अंगूठा लगाया था, लेकिन जब वह सकीना की प्रस्तावक बनीं तो उन्होंने उर्दू में साइन कर दिए। इसी को आधार बनाकर सकीना बेगम का पर्चा खारिज कर दिया गया था। सकीना बेगम पूर्व में भी जिला पंचायत की अध्यक्ष रही हैं।

भाजपा प्रत्याशी ललित तंवर निर्विरोध जिला पंचायत अध्यक्ष चुन लिए गए हैं।
भाजपा प्रत्याशी ललित तंवर निर्विरोध जिला पंचायत अध्यक्ष चुन लिए गए हैं।

बहराइच: सपा प्रत्याशी ने नामांकन वापस लिया

बहराइच में भी सपा प्रत्याशी ने नामांकन वापस ले लिया है। अब यहां भाजपा के प्रत्याशी के निर्विरोध चुने जाने का रास्ता साफ हो गया है। सपा प्रत्याशी नेहा अजीज पुराने सपाई नेता की पत्नी हैं। अचानक मंगलवार को वह कलक्ट्रेट पहुंचीं और अपना नामांकन वापस ले लिया। जबकि उन्होंने नामांकन करके भाजपा प्रत्याशी मंजू सिंह की जीत का रास्ता मुश्किल कर दिया था। अब मंजू सिंह निर्विरोध चुने जाने का रास्ता बिलकुल साफ़ हो गया है।