पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

शाहजहांपुर में फर्जी नौकरी दिलाने वाले गैंग का खुलासा:स्पोर्ट्स कोटे से सेना में नौकरी दिलाने के नाम पर वसूलते थे 6 लाख रुपए, ग्वालियर के दफ्तर से खुद ही जारी करते थे Appointment letter

शाहजहांपुर25 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
पुलिस ने फर्जी नौकरी दिलाने वाले गैंग के 4 सदस्यों को गिरफ्तार किया - Dainik Bhaskar
पुलिस ने फर्जी नौकरी दिलाने वाले गैंग के 4 सदस्यों को गिरफ्तार किया

उत्तर प्रदेश के शाहजहांपुर में पुलिस ने एक फर्जी नौकरी दिलाने वाले गैंग का खुलासा किया है। गैंग के सदस्य बेरोजगार युवाओं को स्पोर्ट कोटे से सेना में नौकरी दिलाने के नाम पर उनसे 6 लाख रुपए तक वसूलते थे। फिर ग्वालियर में अपने दफ्तर से खुद ही फर्जी अपॉइंटमेंट लेटर जारी करते थे। पुलिस ने गैंग के 4 सदस्यों को गिरफ्तार किया है। जिले के एसपी एस आनंद ने गैंग का खुलासा कर कई अहम जानकारियां दीं।

ग्वालियर से लेकर रांची तक जुड़े हैं तार

एसपी एस आनंद ने बताया कि, पुलिस के सामने गैंग के सदस्यों ने अपना गुनाह कबूल कर लिया है। आरोपियों ने बताया कि, वह युवाओं को स्पोर्ट कोटे से सेना में भर्ती कराने के नाम पर 3 से 6 लाख रुपए तक ऐंठते थे। फिर युवाओं को अपने झांसे में लेकर उनको ग्वालियर ऑफिस बुलाते थे। ऑफिस में युवाओं के शरीर की जांच होती थी। फिर उनको भरोसे में लेकर होटल में रुकाते थे। बाद में ऑफिस में ही फर्जी दस्तावेज तैयार कर उनको दे देते थे। हालांकि, अभी तक गैंग के दस्तावेज पर किसी को नौकरी नहीं मिली है। गैंग के सदस्यों के तार ग्वालियर से लेकर रांची तक जुड़े हैं। पूरे मामले की जांच की जा रही है। गिरोह के पांच सदस्य फरार हैं। जिनकी तलाश की जा रही है।

30 लोगों को जाल में फंसा लूटा

उन्होंने बताया कि, ग्वालियर स्थित दफ्तर में बैठने वाले और लोगों तक पहुंच बनाकर उनको ठगने वाले गैंग के पांच अन्य आरोपी फरार हैं। जिनकी तलाश पुलिस ने शुरू कर दी है। गैंग के सदस्य युवाओं से नौकरी दिलाने के नाम पर उनसे 3 से 6 लाख रुपए तक वसूल करते थे। अब तक गैंग के लोग करीब 30 लोगों को अपने जाल में फंसा चुकें हैं।

आरोपियों ने छत से लगा दी छलांग

उन्होंने बताया कि, सूचना मिलने पर तिलहर क्षेत्र के गांव ढकिय रघा के रहने वाले आरोपी भूपेंद्र के घर दबिश दी गई थी। इस बची वहां से चारों आरोपियों को पुलिस ने गिरफ्तार किया। इसमें भूपेंद्र, कुलदीप, प्रभात और कमलेश शामिल है। दबिश के दौरान दो आरोपियों ने छत से छलांग लगा दी थी। जिसमें दोनों घायल हो गए। पुलिस ने आरोपियों के पास से फर्जी सर्टिफिकेट सहित लैपटॉप, आईकार्ड संग कई अहम दस्तावेज बरामद किए हैं।

एक बार फरार होने में कामयाब रहे थे आरोपी

पुलिस ने बताया कि, मामले की सूचना मिलते ही थाना तिलहर पुलिस ने प्रार्थना पत्र मिलने के बाद जांच शुरू की थी। जिसमें स्पोर्ट कोटे से सेना में भर्ती कराने के नाम पर ठगी करने का आरोप लगाया गया था। आरोप सही पाये जाने पर पुलिस ने ग्वालियर स्थित गिरोह के दफ्तर में छापेमारी की थी। लेकिन, वहां से सभी आरोपी फरार हो गये थे।