शराब माफिया मनोज जायसवाल जेल से चला रहा सिंडिकेट:100 करोड़ की टैक्स चोरी के आरोप के बाद शराब की 4 दुकानें नहीं हुई सीज

बरेली6 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

यूपी में 100 करोड़ की टैक्स चोरी के बाद प्रदेश में शराब माफिया प्रणय अनेजा और पश्चिमी यूपी के सबसे बड़े बार डाउनटाउन-21 के मालिक शराब माफिया मनोज जायसवाल चर्चा में हैं। जिसने 100 करोड़ का चूना लगाया हो उस पर आबकारी विभाग के अफसर कार्रवाई करने से गुरेज कर रहे हैं। फिलहाल पुलिस शराब माफिया सहारनपुर की टपरी डिस्टलरी के मालिक प्रणय अनेजा और मनोज जायसवाल समेत गैंग से जुड़े 16 लोगों को जेल भेज चुकी है, लेकिन आबकारी विभाग अभी भी शराब माफिया के सिंडिकेट को तोड़ नहीं पाया है।

शराब माफिया मनोज जायसवाल के बार 21 और तमाशा बार पर ही हुई कार्रवाई
शराब माफिया मनोज जायसवाल के बार 21 और तमाशा बार पर ही हुई कार्रवाई

शराब माफिया मनोज जायसवाल के बार 21 और तमाशा बार पर ही हुई कार्रवाई
पुलिस अफसरों ने BDA के साथ मिलकर शराब माफिया मनोज जायसवाल के बरेली स्थित डॉउनटाउन बार-21 और तमाशा बार को जमींदोज कर दिया, लेकिन आज भी आबकारी विभाग शराब माफिया की चार दुकानों पर कार्रवाई नहीं कर अपनी मेहरबानी दिखा रहा है। वह भी तब जब शराब माफिया पर 100 करोड़ की टैक्स चोरी का आरोप है और वह जेल में है। अब जेल से ही पूरा सिंडिकेट चला रहा है।

शराब माफिया और एक सीओ की दुकान चर्चा में
100 करोड़ की टैक्स चोरी में शराब माफिया मनोज जायसवाल और उनके परिवार की चार दुकानों के लाइसेंस अभी तक सस्पेंड नहीं किए जा सके हैं। जबकि उनके तार एक सीओ से भी जुड़े हैं। सीओ ने उनकी मदद से ही एक शराब की दुकान का लाइसेंस ले रखा है। उनका भी लाइसेंस सस्पेंड नहीं हो सका है। इस दौरान अभी तक इन दुकानों का नवीनीकरण भी नहीं कराया गया है।

अफसरों की मानें तो अभी तक निरस्तीकरण की कार्रवाई चल रही है। हालांकि अगर 31 मार्च तक नवीनीकरण नहीं कराया गया तो शराब का लाइसेंस खुद निरस्त हो जाएगा। इतना ही नहीं इस सिंडिकेट में एक सीओ का नाम भी आया है जो अपनी पत्नी के नाम पर बरेली में शराब की दुकान चला रहा है। उस पर भी कार्रवाई नहीं की जा सकी है।

जेल से सिंडिकेट चला रहा शराब माफिया
सहारनपुर की टपरी डिस्टलरी से 100 करोड़ की टैक्स चोरी के मामले में फंसे मॉडल टाउन के रहने वाले शराब माफिया मनोज जायसवाल को पुलिस ने भले ही जेल भेज दिया हो, लेकिन वह सलाखों के पीछे से आबकारी विभाग के कुछ अफसरों की महेरबानी से पूरा सिंडिकेट चला रहा है। इतनी बड़ी टैक्स चोरी कर सरकार को 100 करोड़ का चूना लगाने के बाद भी अफसरों ने सिर्फ उसके डॉउनटाउन-21 बार और तमाशा बार पर ही कार्रवाई कर कर ली है।

जबकि अभी भी शराब माफिया मनोज जायसवाल, उसकी पत्नी कनुप्रिया जायसवाल, भाई विकास और नीरज जायसवाल के नाम सरकारी ठेके अभी भी चल रहे हैं और उन पर कोई कार्रवाई नहीं की गई है।