धर्म संसद में मौलाना भूले कोरोना गाइडलाइन:बरेली में तौकीर रजा बोले- योगी जी अपनी पुलिस को भेजो, हम यहीं खड़े रहेंगे

बरेली21 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
बरेली में मुस्लिम धर्म संसद को संबोधित करते मौलाना तौकीर रजा। - Dainik Bhaskar
बरेली में मुस्लिम धर्म संसद को संबोधित करते मौलाना तौकीर रजा।

हरिद्वार धर्म संसद के विरोध में शुक्रवार को बरेली के इस्लामिया मैदान में मुस्लिम धर्म संसद हुई। इसमें इत्तेहादे मिल्लत काउंसिल (IMC) नेता मौलाना तौकीर रजा ने बड़ा बयान दिया है। तौकीर रजा ने कहा, 'ये बेईमान हुकूमत अपने उन नुमाइंदों को भेजे, जो हमारा कत्ल कर दे'। उन्होंने सीएम योगी को निशाने पर लेते हुए कहा कि अपनी पुलिस को भेजो हम यहीं खड़े रहेंगे, हटने वाले नहीं हैं।

इस धर्म संसद में लोग कोरोना की गाइडलाइन को भूले नजर आए। भीड़ में किसी के चेहरे पर मास्क नहीं था। सोशल डिस्टेंसिंग भी नदारद थी। यह तब है कि जब प्रदेश में हर दिन कोरोना के केस डबल हो रहे हैं। ये भीड़ कोरोना सुपर स्प्रेडर का काम कर सकती है।

यूपी में एक दिन में कोरोना के 4228 नए केस:सात महीने बाद आए इतने ज्यादा पॉजिटिव, पूर्व केंद्रीय मंत्री शिव प्रताप शुक्ल संक्रमित

हरिद्वार धर्म संसद की निंदा

मौलाना तौकीर ने कहा कि असल में हरिद्वार में हुई धर्म संसद, धर्म संसद नहीं थी। किसी धर्म में यह नहीं सिखाया जाता कि वह लोगों का कत्लेआम शुरू कर दे। मौलाना तौकीर रजा ने कहा की ऐसी धर्म संसद करने वालों के खिलाफ कार्रवाई होनी चाहिए। सरकार उनकी सरपरस्ती करती है, हिंदुओं को ऐसे लोगों का समर्थन नहीं करना चाहिए।

देश को न करें बर्बाद

बरेली में आयोजित मुस्लिम धर्म संसद में जुटी भारी भीड़।
बरेली में आयोजित मुस्लिम धर्म संसद में जुटी भारी भीड़।

तौकीर रजा ने कहा कि उलेमाओं ने दावत का सिलसिला बंद कर दिया है, इसलिए हिंदू और मुस्लिम भाइयों में फर्क आ गया है। आप दावत का सिलसिला शुरू कीजिए तभी देश में प्रेम भाव का सिलसिला शुरू होगा। उन्होंने कहा कि तमाम हिंदूवादी भाइयों से कहना चाहता हूं कि देश के लिए लड़ाई करो, देश की एकता के लिए लड़ाई लड़ो।

उन्होंने आगे कहा कि देश को बर्बाद करने के लिए कभी लड़ाई नहीं लड़ी जानी चाहिए। मैं जो कुछ भी कर रहा हूं किसी सियासी फायदे के लिए नहीं है। हमने तकलीफ में जिंदगी गुजारी है और आने वाली नस्ल के लिए हम एक अच्छा हिंदुस्तान छोड़ना चाहते हैं।

300 की अनुमति, हजारों की भीड़

मुस्लिम धर्म संसद में IMC ने पुलिस से 300 लोगों के शामिल होने की इजाजत मांगी थी, लेकिन कार्यक्रम में करीब सात हजार से अधिक लोगों ने शिरकत की। इस दौरान कोविड गाइडलाइन का पालन भी नहीं किया।