यूपी में 14 IAS ट्रांसफर, 10 जिलों के DM बदले:सांसद-विधायकों की नाराजगी के बाद SSP बरेली सत्यार्थ अनिरुद्ध हटाए गए

लखनऊ/बरेली12 दिन पहले

योगी सरकार ने शनिवार देर रात 14 IAS अफसरों का तबादला किया है। इसमें आगरा, बाराबंकी, मथुरा समेत 10 जिलों के डीएम बदले हैं। वहीं, एक IPS बरेली के SSP सत्यार्थ अनिरुद्ध पंकज को भी हटा दिया गया है। सांसद-विधायकों की नाराजगी बरेली SSP पर भारी पड़ी है। सत्यार्थ अनिरुद्ध को पुलिस अधीक्षक स्थापना लखनऊ बनाया गया है। उनकी जगह पर पुलिस अधीक्षक स्थापना रहे 2009 बैच के IPS अखिलेश चौरसिया को बरेली SSP की जिम्मेदारी दी गई है।

आइए, पहले आपको बताते हैं IAS अफसरों के ट्रांसफर के बारे में...

नवनीत सिंह चहल को आगरा का DM बनाया गया है। अभी तक वह मथुरा के DM थे।
नवनीत सिंह चहल को आगरा का DM बनाया गया है। अभी तक वह मथुरा के DM थे।

आगरा, बाराबंकी, मथुरा समेत 10 जिलों के DM बदले गए हैं। बाराबंकी के DM रहे डॉक्टर आदर्श सिंह को झांसी मंडल का प्रभारी आयुक्त नियुक्त किया गया है।

गाजीपुर के DM मंगला प्रसाद सिंह को हरदोई DM बनाया गया है। जबकि हरदोई के DM अविनाश कुमार को बाराबंकी का जिम्मा दिया गया है। मथुरा के DM रहे नवनीत सिंह चहल को आगरा की जिम्मेदारी दी गई है। बता दें कि कुल 14 अधिकारियों का ट्रांसफर किया गया है। आगे, IAS की ट्रांसफर लिस्ट...

  • अब बताते हैं IPS सत्यार्थ अनिरुद्ध को हटाने के पीछे की वजह

दो दिन पहले भाजपा सांसद और विधायकों ने जताई थी नाराजगी
दो दिन पहले ही बरेली में सर्किट हाउस में भाजपा सांसद संतोष गंगवार और भाजपा विधायकों ने ADG राजकुमार और IG रमित शर्मा के साथ बैठक कर अपनी नाराजगी जाहिर करते हुए SSP सत्यार्थ अनिरुद्ध के खिलाफ मोर्चा खोला था। शायद इसी दिन उनके ट्रांसफर की पटकथा तैयार हो गई थी।

SSP सत्यार्थ अनिरुद्ध की बरेली में सीनियर अफसरों से भी नहीं बन रही थी। ऐसे में उनको सीनियर अफसरों का भी साथ नहीं मिला। इसके अलावा, जिले में काफी अस्थिरता का माहौल बन गया था। दो माह में ही 10 से ज्यादा इंस्पेक्टर को सस्पेंड कर दिया।

बरेली में सर्किट हाउस में भाजपा सांसद संतोष गंगवार ने ADG और IG के साथ बैठक कर SSP सत्यार्थ अनिरुद्ध के खिलाफ अपनी नाराजगी जाहिर की थी।
बरेली में सर्किट हाउस में भाजपा सांसद संतोष गंगवार ने ADG और IG के साथ बैठक कर SSP सत्यार्थ अनिरुद्ध के खिलाफ अपनी नाराजगी जाहिर की थी।

पूर्व विधायक के बेटे की गिरफ्तारी के बाद बढ़ी थी एसएसपी से शिकायत
SSP सत्यार्थ अनिरुद्ध पंकज काे 25 जून को बरेली SSP के पद पर पोस्ट किया गया था। उनके आने के कुछ ही दिनों बाद बरेली में ताबड़तोड़ पुलिस महकमे में ट्रांसफर हुए। करीब 12 इंस्पेक्टर और दरोगा को सस्पेंड किया गया। 13 सितंबर को भाजपा विधायक केसर सिंह गंगवार के बेटे विशाल को इज्जतनगर इंस्पेक्टर संजय धीर ने BDA की तरफ से दर्ज कराए एक मुकदमे में गिरफ्तार कर थाने में बंद कर दिया था।

बस यहीं से उनके खिलाफ भाजपा सांसद और विधायकों में नाराजगी आ गई। कहा जा रहा है कि इज्जतनगर इंस्पेक्टर जब विधायक के बेटे विशाल को गिरफ्तार करने पहुंची थी तो उसने ADG और IG से फोन पर बात करने को कहा। लेकिन इंस्पेक्टर ने साफ कह दिया कि ADG-IG नहीं कप्तान से बात कराओ, नहीं तो थाने चलो नेतागीरी नहीं चलेगी।

इस पोल में हिस्सा लेकर आप एसएसपी पर हुए एक्शन को लेकर अपनी राय दे सकते हैं।

भाजपा नेताओं पर कार्रवाई को बनाया इश्यू

  • सुभाषनगर में RSS प्रचारक को पीटा, RSS के पदाधिकारियों पर मुकदमा।
  • प्रेमनगर में बिरयानी की दुकान पर बवाल में भाजपा नेताओं पर मुकदमा दर्ज।
  • भोजीपुरा में हुए मोहर्रम को भाजपा जिला पंचायत अध्यक्ष को गिरफ्तार किया गया था।
  • रिश्तेदार विधवा महिला के मकान के विवाद में पैरवी करने गए भाजपा नेता यातिन भाटिया पर मुकदमा।
  • सुभाषनगर में चोरी के आरोप में एक भाजपा नेता को जेल भेजा गया।
खबरें और भी हैं...