आजम खान की खास, नवाबगंज की चैयरमैन पर गिरी गाज:राज्यपाल ने चेयरमैन को किया सस्पेंड, पति को भी पुलिस ने किया गिरफ्तार

बरेली3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
राज्यपाल ने चेयरमैन को किया सस्पेंड, पति को भी पुलिस ने किया गिरफ्तार। - Dainik Bhaskar
राज्यपाल ने चेयरमैन को किया सस्पेंड, पति को भी पुलिस ने किया गिरफ्तार।

सपा शासनकाल में आजम खान की खास कही जाने वाली बरेली के नवाबगंज टॉउन की चेयरमैन शहला ताहिर पत्नी डा. ताहिर भष्टाचार व वित्तीय अनियमितताओं के आरोपों में घिरने के बाद मुश्किलों में फंसती दिखाई दे रही हैं। राज्यपाल ने चेयरमैन शहला ताहिर के अधिकार सीज करने के साथ ही शासन को उन्हें बर्खास्त करने के आदेश दिए हैं।

आदेश की कॉपी आते ही शासन-प्रशासन हरकत में आ गया है। वहीं एक पुराने मामले में पुलिस ने शहला ताहिर के पति डा. ताहिर को गिरफ्तार कर लिया है। वहीं अब चेयरमैन की बर्खास्तगी के आदेश के बाद प्रशासन चेयरमैन पर कार्रवाई करने जा रहा है।

पूर्व भाजपा जिलाध्यक्ष पर एक दिन में दर्ज कराए थे 33 मुकदमे

सपा शासन काल में आजम खान की खास रही नवाबगंज की चेयरमैन शहला ताहिर और भाजपा नेता और पूर्व जिलाध्यक्ष रविंद्र सिंह राठौर के बीच राजनैतिक वर्चस्व की लड़ाई के चलते सुर्खियाें में रही है। अखिलेश के नेतृत्व वाली सपा सरकार में शहला ताहिर ने अपने राजनैतिक रसूख के दम पर भाजपा नेता रविंद्र सिंह राठौर पर एक ही दिन में 33 मुकदमे नवाबगंज थाने में दर्ज कराया था।

एक ही दिन में भाजपा नेता के खिलाफ 33 मुकदमो का यह मामला लखनऊ तक में चर्चा का विषय बना था। जिसके बाद से ही दोनों के बीच राजनैतिक रसूख की लड़ाई चली आ रही है।

सत्ता के साथ चलती रही सियासत की लड़ाई

उनके सियासत की यह लड़ाई सत्ता बदलने के साथ और भी बढ़ती गई। सपा सरकार में शहला ने जहां रविंद्र सिंह राठौर का जीना दुश्वार कर दिया था। वहीं योगी सरकार बनने के बाद शहला की उलटी गिनती शुरू हो गई। 4 साल पहले भाजपा नेता रविंद्र सिंह राठौर ने शासन से शहला के खिलाफ पद का गलद फायदा, वित्तीय अनियमितता और भष्टाचार का आरोप लगाते हुए शिकायत की थी। हालांकि इस दौरान शहला अपने राजनैतिक पकड़ व रसूख के चलते अपने पद पर बनी रहीं।

वहीं भाजपा नेता रविंद्र सिंह ने भी हार नहीं मानी और शहला ताहिर के खिलाफ और मजबूत किला बंदी की और इस बार शहला की राजनैतिक शियासत को हिला कर रख दिया है।

रविंद्र के भाई के आरोप सही पाए जाने पर कार्रवाई

बता दें कि शहला ताहिर के खिलाफ भाजपा के पूर्व जिलाध्यक्ष रविंद्र सिंह राठौर के भाई नीरेंद्र सिंह राठौर ने वित्तीय अनियमितता समेत कई गंभीर आरोप लगाए थे। डीए की जांच में मामला सही पाया गया। जिसके बाद राज्पाल आनंदी बेन पटेल ने शहला ताहिर की बर्खास्तगी के आदेश शासन को दे दिए हैँ।

राज्यपाल का आदेश मिलते ही शहला ताहिर पर शिकंजा कसना शुरू हो गया है। हाल यह है कि एक पुराने मामले में पुलिस ने शहला ताहिर के पति डा. ताहिर को भी गिरफ्तार कर लिया है। वहीं शहला ताहिर के खिलाफ इस कार्रवाई के बाद उनके समर्थकों में हड़कंप मचा हुआ है