पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Uttar pradesh
  • Bareilly
  • Bareilly Man Dies In Belgium: PhD Student Vasil Died In Belgium Croatia Beach Due To Drowning, Family Worried To Bring Son Dead Body Back To India

बरेली के युवक की क्रोशिया में मौत:PhD करने गए वासिल की क्रोशिया के बीच में डूबने से गई जान, बेटे का शव इंडिया लाने को 3 दिन से परिजन परेशान

बरेली2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
मृतक वासिल- फाइल फोटो - Dainik Bhaskar
मृतक वासिल- फाइल फोटो

बेल्जियम की यूसी लवानिया यूनिवर्सिटी से PhD करने गए बरेली के छात्र वासिल मलिक की क्रोशिया के समुद्र में डूबने से मौत हो गई। मौत की सूचना जब बरेली में परिवार को मिली तो कोहराम मच गया। परिजन बीते 3 दिनों से शव को बरेली लाने के लिए प्रयास कर रहे हैं। उन्होंने विदेश मंत्रालय से लेकर क्रोशिया में भारतीय दूतावास तक सभी से संपर्क कर लिया है।

मगर अभी तक कोई स्पष्ट जवाब नहीं मिल पा रहा है। परिजनों का कहना है कि यूनिवर्सिटी से भी उनकी बात हुई तो बताया गया कि यहां से भी लगातार कोशिश की जा रही है कि शव को बरेली भेज दिया जाए।

दोस्तों के साथ गया था क्रोशिया घुमने
परिजनों ने बताया कि वासिल अपने दोस्तों के साथ छुट्‌टी बिताने के लिए क्रोशिया के 'पोकोंजी डॉल बीच' पर गया था। वहां समुद्र में सभी दोस्त राफ्टिंग कर रहे थे। इसी बीच तेज पानी में वासिल का मूवमेंट अचानक से बंद हो गया। आनन-फानन में उसके दोस्तों समेत वहां मौजूद टीम ने उसे पानी से बाहर निकाला। उस वक्त उसकी कुछ सांसे चल रही थी। मगर जब तक डॉक्टर के पास पहुंचे वासिल ने दम तोड़ दिया। जिसकी वजह से डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया।

बेल्जियम के एक ओवर ब्रिज पर वासिल। (मृतक की फाइल फोटो)
बेल्जियम के एक ओवर ब्रिज पर वासिल। (मृतक की फाइल फोटो)

दोस्त ने बताया कि पैरों तले जमीन खिसक गई
परिजनों के मुताबिक करीब तीन दिन पहले वासिल के नंबर से रात करीब साढ़े दस बजे फोन आया। फोन पर वासिल नहीं बल्कि उसका दोस्त बात कर रहा था। उसने बताया कि वासिल की मौत हो गई। यह शब्द सुनते ही परिजनों के पैरों के नीचे से जमीन खिसक गई। जब तक पूरी बात पता चलती तब तक परिवार में कोहराम मच गया। तब से लेकर अब तक परिजन शव को भारत लाने के लिए हाथ पांव पटक रहे है।

भारतीय दूतावास से लेकर विदेश मंत्रालय सब जगह कर चुके संपर्क
परिजनों का कहना है कि वासिल के शव को क्रोशिया में ही मोर्चरी में रखवा दिया गया है। जब से उसकी मौत की खबर मिली है तब से विदेश मंत्रालय से लेकर भारतीय दूतावास तक सभी जगह शव को लाने की बात कर चुके है। मगर अभी तक कोई उम्मीद हाथ नहीं लग पा रही है। वासिल की यूनिवर्सिटी से भी संपर्क किया गया। वहां से भी आश्वासन दिया गया है। इतना ही नहीं परिजनों ने सोशल मीडिया का भी सहारा लेकर मदद की गुहार लगाई है।

पिछले ही साल ही वासिल गया था बेल्जियम
मृतक वासिल के मौसेरे भाई रफीक ने बताया कि पिछले वर्ष ही लॉकडाउन से पहले वासिल बेल्जियम गया था। उसकी पीएचडी इसी वर्ष सितम्बर माह में पूरी होती। जब से लॉकडाउन लगा था तब से वह वहीं पर था। इससे पहले उसने दिल्ली की जामिया यूनिवर्सिटी से एमटेक की पढ़ाई पूरी की थी। वहां से स्कॉलरशिप पर वह पीएचडी करने के लिए बेल्जियम गया था। वासिल के पिता लईक अहमद मलिक एक विजनेस मैन है।

खबरें और भी हैं...