हरैया में हादसों का कारण बने अवैध कट:डिवाइडर को तोड़ रास्ता बनाया तो जाना पड़ सकता है जेल, जिला प्रशासन दिए कार्रवाई कराने के निर्देश

हरैया3 महीने पहले

नेशनल हाईवे पर आए दिन हो रहे हादसों की एक बड़ी वजह हाईवे पर जगह-जगह डिवाइडर को तोड़कर बनाए गए रास्ते हैं। इन अवैध कटों से होकर लोग अपनी जान जोखिम में डालकर सड़क पार करते हैं जिससे वे सामने से आ रही तेज रफ्तार वाहनों की चपेट में आकर दुर्घटना का शिकार हो रहे हैं। दैनिक भास्कर ने इस खबर को बीते 19 मई को प्रमुखता से प्रकाशित किया था। जिला प्रशासन ने इसके लिए एनएचएआई को सख्त निर्देश देते हुए कहा है कि हाईवे पर बने अवैध कटको बंद कराया जाए। साथ ही डिवाइडर को काटकर बनाए गए इन रास्तों को बंद करने के बाद यह दोबारा कोई इसे तोड़कर रास्ता बनाता है तो उसे चिह्नित कर उसके खिलाफ मुकदमा दर्ज कराया जाए, जिससे उसे खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जा सके।

बता दें कि बस्ती जिले के हर्रैया तहसील क्षेत्र के हाईवे पर तिलकपुर से लेकर बस्ती जिले की सीमा परशुरामपुर थाना क्षेत्र के घा घाघौआ चौकी के बीच कप्तानगंज ककुआ रावत ,गड़हा गौतम, महराजगंज कस्बा, रजौली हरैया नगर पंचायत कार्यालय के पास, छावनी, विक्रमजोत सहित अन्य जगहों पर जगह-जगह आसपास के लोगों द्वारा हाईवे के डिवाइडर को तोड़कर रास्ता बना दिया गया है जिससे लोग सड़क पार कर सामने से आ रही वाहन की चपेट में आकर दुर्घटना का शिकार हो रहे हैं।

जिले में 40 स्थानों पर ब्लैक स्पाट चिह्नित हैं। इन पर भी आए दिन हादसे होते रहते हैं। इस साल जनवरी से लेकर अप्रैल तक ब्लैक स्पाट और अवैध कट वाले स्थानों पर तकरीबन 72 हादसे हो चुके हैं। इनमें 28 लोगों को अपनी जान से हाथ धोना पड़ा जबकि 32 लोग घायल हुए। वहीं एनएचएआई के सेफ्टी मैनेजर श्याम अवतार शर्मा ने बताया कि जल्दी ही अभियान चलाकर सभी हाईवे पर बने अवैध कट बंद कराए जाएंगे यदि इसके बाद किसी ने उसे तोड़कर रास्ता बनाया तो उसके खिलाफ मुकदमा दर्ज कराया जाएगा।

खबरें और भी हैं...