बस्ती में टिकट के नाम पर ठगे गए नेता जी:कोऑर्डिनेटर को दिए थे 43 लाख, न मिला टिकट, न हो रहा रूपया वापस

बस्ती3 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
बस्ती में टिकट के नाम पर ठगे गए नेता जी - Dainik Bhaskar
बस्ती में टिकट के नाम पर ठगे गए नेता जी

बस्ती में के एक दलित नेताजी बसपा से विधायकी का चुनाव लड़ना चाहते थे, इसके लिए उन्होंने महादेवा सुरक्षित विधान सभा से चुनाव लड़ने के लिए बसपा कोआर्डिनेटर ने उनसे 43 लाख रूपए भी वसूल लिए, लेकिन न तो उन्हें बसपा सेटिकट ही मिला और न ही किश्तों में दिया गया 43 लाख रूपया ही वापस मिला। अब नेताजी ने रूपया वापस न मिलने पर मुकदमा दर्ज कराने की धमकी दी है।

जिलाध्यक्ष ने भी की वसूली

जिले के पुरानी बस्ती क्षेत्र निवासी गोवर्धन सोनकर का आरोप है कि बसपा कोआर्डिनेटर घनश्याम खरवार उनसे मिले और कहा कि आप बसपा में शामिल हो जाइए,आपको पार्टी महादेवा से टिकट देगी। जब उन्होंने कहा कि उनका बहुत शोषण हुआ है, धोखा न हो। इस पर बसपा कोआर्डिनेटर ने आश्वासन दिया कि ऐसा नहीं होगा। कहा कि उनके कहने पर अलग-अलग किश्तों में उनसे 43 लाख रूपया लिया गया। कहा कि कुछ पैसा पार्टी फण्ड में जमा कराने के लिए बसपा जिलाध्यक्ष जय हिन्द ने भी लिया।

कोऑर्डिनेटर ने बंद किया फोन उठाना

जब उन्हें प्रत्याशी नहीं बनाया गया और महादेवा विधान सभा से उनके पुत्र लक्ष्मीचन्द खरवार बसपा के विधान सभा प्रत्याशी/ प्रभारी घोषित हो गए तो वे अपना रूपया वापस मांगने लगे, लेकिन उनका दिया गया 43 लाख रूपया भी वापस नहीं किया जा रहा है। इस सम्बन्ध में बसपा कोआर्डिनेटर घनश्याम खरवार के मोबाइल नम्बर 9839169217 पर काल कर उनका पक्ष जानने का प्रयास किया गया, लेकिन फोन नहीं उठा। बसपा जिलाध्यक्ष जय हिन्द के मोबाइल पर बात की गई तो उन्होंने आरोपों को सिरे से खारिज कर दिया। कहा कि आरोप झूठे हैं और उनसे कोई लेन-देन नहींकिया गया है। बता दें कि गोवर्धन सोनकर इससे पूर्व पीस पार्टी और वर्ष 2017 में निषाद पार्टी से महादेवा विधानसभा क्षेत्र से चुनाव लड़ चुके है। इसके अलावा एक बार बस्ती नगर पालिका चेयरमैन का चुनाव निर्दल के रूप में लड़ चुके हैं।

खबरें और भी हैं...