मनुष्य को करना चाहिए भलाई का काम:भक्ति में ध्यान लगाने से आत्मा को मिलती है शांति, सच्चे दिल से करें भगवान को याद

बस्ती2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

बस्‍ती के गनेशपुर नगर पंचायत के डेरवा में भागवत कथा चल रही है। जिसमें अयोध्या धाम से पधारे कथा वाचक राजकुमार शास्त्री ने कहा कि मनुष्य रूपी जीवन में व्यक्ति को अच्छाई और भलाई के कार्य करने चाहिए। मनुष्य को दिन भर का कुछ समय भगवान की भक्ति में लगाने से आत्मा को शांति मिलती है। अच्छे कर्म करने से हमेशा अच्छा फल मिलता है। कलयुग केवल नाम मात्र है। इस युग में जो मनुष्य भगवान का संकीर्तन करता है। वह इस माया रुपी जाल से भवसागर पार हो जाता है।

उन्होंने कहा कि भक्तों के उद्धार के लिए भगवान का अवतार होता है। जब-जब धर्म की हानि होती है। जब राक्षसों का ज्यादा बोलबाला होता है और तब प्रभु का अवतार होता है। भगवान की पूजा व भक्ति सच्चे दिल से करनी चाहिए। यदि हम भगवान की पूजा करेंगे तो भगवान भी हमारा ध्यान रखेंगे।

स्‍ती के गनेशपुर नगर पंचायत के डेरवा में भागवत कथा का आयोजन।
स्‍ती के गनेशपुर नगर पंचायत के डेरवा में भागवत कथा का आयोजन।

संसार की मोह माया त्यागना होगा
मनुष्य का सबसे बड़ा कर्तव्य माता पिता की सेवा करना है। जिसके द्वारा भगवान खुद प्राप्त हो जाते हैं। जो सुखी मानव जीवन की परिकल्पना करता है। उसे संसार की मोह माया त्यागना होगा और संतोष करना चाहिए तभी भगवान उसे सुख प्रदान करते हैं। संसार की मोह माया त्याग कर भगवान के चरणों में जीवन करने पर ही सुख प्राप्त होता है। जो मानव संसार की मोह माया में लगा रहता है। उसे कभी चैन सुख की प्राप्ति नहीं होती इसलिए भगवान ने मानव जाति को हमेशा उपदेश दिया है।

खबरें और भी हैं...