चांदपुर में कब्जे को लेकर भाजपा क्षेत्रीय मंत्री धरने पर:तहसीलदार पर लगाए गंभीर आरोप, कहा- मिलीभगत से पट्टे की जमीन पर कब्जा कराया जा रहा

चांदपुर (बिजनौर)2 महीने पहले

चांदपुर तहसील में भाजपा के पिछड़ा वर्ग के क्षेत्रीय मंत्री कमल कश्यप अवैध कब्जे को लेकर ग्रामीणों के साथ धरने पर बैठे हैं। भाजपा के क्षेत्रीय मंत्री ने पट्टे की जमीन पर अवैध कब्जे का आरोप लगाया है। क्षेत्रीय मंत्री तहसील में एसडीएम से आवास पर मिलने आए थे, एसडीएम से नहीं मिले तो वहीं धरने पर बैठ गए।

भाजपा के क्षेत्रीय मंत्री ने तहसीलदार पर अवैध कार्य कराने आरोपियों से हमसाज होने और पैसे लेकर अवैध कब्जा कराने का आरोप लगाया। उन्होंने कहा कि अगर उनकी यहां सुनवाई नहीं हुए तो जिला अधिकारी के यहां धरना देंगे।

चार पांच महीने पहले कब्जा शुरू हुआ
दरअसल यह पूरा मामला बिजनौर जिले के तहसील चांदपुर का है। ग्राम मनोटा निवासी कमल कश्यप भाजपा पिछड़ा वर्ग के क्षेत्रीय मंत्री हैं। भाजपा क्षेत्रीय मंत्री कमल कश्यप ने आरोप लगाया कि ग्राम पंचायत मनोटा में एक मोजा पड़ता है। फरीदपुर वहां एक वाल्मीकि समाज की महिला संतोष को श्रेणी 4 का एक पट्टा अलॉट किया गया था । श्रेणी 4 के पट्टे पर गांव के ही एससी समाज के जसराम पुत्र छोट्टन ने चार-पांच महीने पहले कब्जा करना शुरू किया।

कहा कि इसकी शिकायत हम लोगों ने एसडीएम चांदपुर से की थी। उस पर तत्काल कार्रवाई के लिए निर्माण कार्य रुकवा दिया गया था। लेकिन चार-पांच महीने बाद अब उन लोगों ने तहसीलदार चांदपुर से हमसाज होकर तहसीलदार चांदपुर को पैसे देकर आज पुनः निर्माण कार्य शुरू कर दिया है। वह लेंटर डाल रहे हैं। तहसीलदार ने रविवार को बात करने के लिए कहा था। इसलिए हम चांदपुर एसडीएम साहब से उनके आवास पर मिलने के लिए आए थे। लेकिन एसडीएम आवास पर नहीं मिले।

मंत्री ने बताया कि तहसीलदार चांदपुर को लगा दिए हैं, लेकिन वह फोन उठाने को तैयार नहीं है। क्योंकि उनकी हमसाजी है एसडीएम साहब को भी कल शाम फोन लगाया था। उन्होंने कहा था कि मैं इस समय यहां नहीं हूं, मैं बाद में फोन करूंगा। हमारी यह मांग थी कि इस समय उस पर अवैध निर्माण चल रहा है, उसको इस समय रुकवाया जाए।

एसडीएम से मांग है कि न्याय हित में कार्य करें। यहां हमारी मांग पूरी नहीं हुई तो जिलाधिकारी के यहां धरना देंगे। धरने पर बैठे भाजपा क्षेत्रीय मंत्री पिछड़ा वर्ग कमल कश्यप और ग्रामीणों ने एसडीएम और तहसीलदार चांदपुर हाय हाय के नारे लगाए। साथ ही अवैध कब्जे बंद करने की भी नारे लगाए गए। इस मामले में जब तहसीलदार चांदपुर से उनके नंबर पर उनका पक्ष जानने के लिए फोन किया गया तो बार बार फोन करने पर घंटी बजती रहें और उन्होंने फोन रिसीव नहीं किया।

खबरें और भी हैं...