धामपुर में मदरसा शिक्षकों को 2017 से नहीं मिला मानदेय:भुखमरी की कगार पर पहुंचा परिवार, मदरसा शिक्षक संघ ने ज्ञापन सौंपा

धामपुर3 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

धामपुर में मदरसा आधुनिकीकरण शिक्षक संघ ने अल्पसंख्यक कैबिनेट मंत्री भारत सरकार को संबोधित एक ज्ञापन मुफ्ती शमून कासमी को सौंपा। ज्ञापन में कार्यरत मदरसा शिक्षकों की समस्याओं का शीघ्र समाधान कराने और वर्ष 2017 से रुका हुआ मानदेय दिलाने की मांग की गई।

धामपुर स्थित मदरसा आधुनिकीकरण शिक्षक संघ की एक बैठक मदरसा जामिउल उलूम में आयोजित की गई। मुख्य अतिथि सदस्य प्रोजेक्ट अप्रूवल बोर्ड केंद्रीय मदरसा आधुनिकीकरण योजना मुफ्ती शमून कासमी ने कहा कि वह संबंधित शिक्षकों की समस्याओं को प्रमुखता से अल्पसंख्यक कैबिनेट मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी के समक्ष रखेंगे। उन्होंने मदरसा शिक्षकों को उनकी समस्या का समाधान कराने का आश्वासन भी दिया।

संघ के जिलाध्यक्ष कमरूद्दीन ने कहा कि उनका संगठन शिक्षकों की समस्याओं को लेकर लगातार संघर्षरत है। केंद्रीय शिक्षा मंत्रालय और अल्पसंख्यक मंत्रालय द्वारा संचालित मदरसा आधुनिकीकरण योजना के अंतर्गत उत्तर प्रदेश के मदरसे में कार्यरत मदरसा आधुनिकीकरण शिक्षकों को पिछले 2017 से मानदेय का भुगतान नहीं किया गया है। जिस कारण शिक्षकों की आर्थिक स्थिति दयनीय हो गई है तथा उनका परिवार भुखमरी के कगार पर पहुंच गया है। शिक्षकों को मानदेय नहीं मिलने से उनका परिवार कर्ज में डूबा हुआ है।

मदरसा आधुनिकीकरण शिक्षकों ने रुका हुआ मानदेय शीघ्र दिए जाने की मांग की है। बैठक में शहर इमाम मुफ्ती मोहम्मद कमर कासमी, संघ के जिला उपाध्यक्ष शाहिद हुसैन, इरशाद अली, अफजाल अहमद, तनवीर अहमद, कायनात ज़ैदी, नसरीन अंजाम, मोहम्मद अकरम, फैजुल हक, मास्टर शाहिद, अज़ीमुल्ला फरीदी, अबरार अहमद, मोहम्मद वारिस, मास्टर शमशेर अली, कारी राशिद हमीदी व मोहम्मद यूनुस आदि शिक्षकों ने भाग लिया।

खबरें और भी हैं...