बिजनौर में 5 दिन से धरने पर डटे बिजलीकर्मी:15 सूत्रीय मांग को लेकर जुटे हैं संविदा कर्मी, कर्मचारी और अधिकारी

बिजनौर2 महीने पहले
बिजनौर में मांगों को लेकर 5वें दिन भी बिजली कर्मियों का धरना जारी रहा।

बिजनौर में बिजली कर्मचारी संघर्ष समिति के बैनर तले बिजनौर जिले के सैकड़ों कर्मचारी, अधिकारी और संविदा कर्मी पिछले 5 दिन से 15 सूत्रीय मांग को लेकर अधीक्षण अभियंता कार्यालय पर धरना दे रहे हैं।

बिजली कर्मचारी संयुक्त संघर्ष समिति उत्तर प्रदेश के बैनर तले पिछले 5 दिन से जिले के बिजली विभाग के कर्मचारी और अफसर अपनी 15 सूत्रीय मांगों को लेकर अधीक्षण अभियंता कार्यालय में धरना दे रहे हैं। धरने में बिजली विभाग के संविदा कर्मचारी, कर्मचारी, अवर अभियंता और अभियंता सहित जिले के सभी बिजली कर्मी पिछले 5 दिनों से अपनी 15 सूत्रीय मांगों को लेकर धरना दे रहे हैं।

बिजनौर में मांगों को लेकर 5वें दिन भी बिजली कर्मियों का धरना जारी रहा।
बिजनौर में मांगों को लेकर 5वें दिन भी बिजली कर्मियों का धरना जारी रहा।

पुरानी पेंशन बहाली की मांग
बिजली विभाग के कर्मचारियों और अफसरों की मांग है कि पुरानी पेंशन बहाल की जाए, आउटसोर्सिंग के माध्यम से रखे गए कर्मचारियों को नियमित किया जाए, वेतन विसंगतियों को दूर किया जाए, आए दिन बिजली अफसरों व इंजीनियरों के साथ जो दुर्घटनाएं होती हैं उसके लिए इंजीनियर प्रोटेक्शन एक्ट लागू किया जाए।

बिजनौर में मांगों को लेकर 5वें दिन भी बिजली कर्मियों का धरना जारी रहा।
बिजनौर में मांगों को लेकर 5वें दिन भी बिजली कर्मियों का धरना जारी रहा।

कैशलेस चिकित्सा सुविधा की मांग
इसके साथ ही कोरेना काल में जो बिजली कर्मी की मौत हुई है इसके चलते बिजली कर्मियों को कैशलेस चिकित्सा की सुविधा भी दिए जाने संबंधी 15 सूत्रीय मांगों को लेकर चल रहा है। इस मौके पर शैलेंद्र दुबे, जितेंद्र सिंह गुर्जर, जयप्रकाश सिंह, गिरीश कुमार पांडे, महेंद्र राय, सोहेल आबिद, पीके दीक्षित, शशिकांत श्रीवास्तव, मोहम्मद वसीम, राम सहारे वर्मा, विशंभर सिंह, सुनील प्रकाश पाल, शंभू रतन दीक्षित, पीएस वाजपेई, जेपी सिंह सहित सैकड़ों बिजलीकर्मी और अफसर मौजूद रहे।

खबरें और भी हैं...